Sunday , May 26 2024

मैनपुरी की हार ने बदल दिया भाजपा का गणित? यूपी में फिर ‘गुजरात मॉडल’ के भरोसे भगवा पार्टी

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) एक बार फिर से उत्तर प्रदेश में ‘गुजरात मॉडल’ के भरोसे 2023 के शहरी स्थानीय निकाय (ULB) में उतरने वाली है। 2023 के शहरी स्थानीय निकाय और 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले, उत्तर प्रदेश भाजपा ने पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए गुजरात जीत का सहारा लेने का फैसला किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टी संगठनात्मक कार्यक्रमों में अपने कार्यकर्ताओं से गुजरात विधानसभा जीत से प्रेरणा में लेने की सलाह दे रही है। पार्टी ने पहले भी 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनावों में भी “गुजरात मॉडल” को यूपी में पेश किया था।

उपचुनाव में हार के बाद भाजपा ने बदली रणनीति?

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सूत्रों ने कहा कि यूपी बीजेपी ने समाजवादी पार्टी (सपा) के हाथों मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में हार का सामना करने के बाद गुजरात की जीत को “सफलता मॉडल” के रूप में चुना है। इन्हीं उपचुनावों में भाजपा को सपा सहयोगी राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) से खतौली विधानसभा में भी हार का सामना करना पड़ा था। गुजरात विधानसभा चुनाव और मैनपुरी और खतौली उपचुनाव के नतीजे पिछले महीने एक ही दिन घोषित किए गए थे।

गुजरात में मिली ऐतिहासिक जीत

हाल के विधानसभा चुनावों में, बीजेपी ने गुजरात चुनाव में 156 सीटों पर जीत हासिल की थी, जो 2017 में जीती गई 99 सीटों से कहीं अधिक है। पार्टी ने 2022 में अपने वोट शेयर में भी वृद्धि की। रविवार को लखनऊ में हुई बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषण में कहा, “गुजरात में सातवीं बार बीजेपी की ऐतिहासिक जीत हमें नए उत्साह के साथ काम करने के लिए प्रेरित करती है। एक विजेता के रूप में, यह फिर से हमारे सामने है कि हमें अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए कैसे कार्य करना चाहिए।”

बीजेपी यूपी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी ने अपने संबोधन में कहा कि पार्टी ने गुजरात में इतिहास रचा है। चौधरी ने कहा, ‘गुजरात की जीत से पता चलता है कि राजनीतिक शब्दावली में एंटी-इनकंबेंसी की जगह प्रो-इंकंबेंसी ने ले ली है। यही कारण है कि भाजपा ने आजमगढ़ और रामपुर संसदीय क्षेत्रों में उपचुनाव जीते थे, जो भाजपा की परंपरागत सीटें नहीं थीं… भाजपा ने रामपुर विधानसभा उपचुनाव में भी जीत हासिल की थी।” यूपी बीजेपी के सूत्रों ने कहा, ‘गुजरात मॉडल पर पार्टी नेताओं द्वारा सभी जिला और मंडल इकाइयों की कार्यकारी समिति की बैठकों में भी चर्चा की जाएगी। ये बैठकें 12 फरवरी तक राज्य भर में संपन्न होंगी।

गुजरात की चुनावी जीत को यूपी में एक मॉडल के रूप में पेश करने की आवश्यकता पर, पार्टी के एक नेता ने कहा कि यूपी में भाजपा ने 2014 की तुलना में 2019 के लोकसभा चुनावों में सीटों की संख्या में गिरावट दर्ज की है। 2022 की विधानसभा में भी इसी तरह की गिरावट दर्ज की गई है। उन्होंने कहा, “सपा ने 2022 में अपने स्कोर में सुधार किया। एंटी-इनकंबेंसी और सामाजिक जातिगत समीकरणों को इसके कारणों के रूप में देखा गया। बाद में, भाजपा ने आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा उपचुनाव जीते, हालांकि बहुत कम अंतर से जीते, जबकि मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में भारी अंतर से हार गई। यह खतौली विधानसभा सीट को भी बरकरार रखने में विफल रही।” यह ट्रेंड विपक्षी सपा का मनोबल बढ़ाने और भाजपा कार्यकर्ताओं के आत्मविश्वास को प्रभावित करने के लिए काफी है। खासकर उन निर्वाचन क्षेत्रों में जहां भाजपा 2019 और 2022 में हार गई थी, या बहुत कम अंतर से जीती थी।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch