Sunday , June 16 2024

हिंडनबर्ग खुलासे के बीच अडानी को मिला बड़ा साथ, इस विदेशी कंपनी ने FPO में लगाया 3200 करोड़ रुपये

अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग (Hindenburg) की अडानी ग्रुप को लेकर पब्लिश रिपोर्ट के बाद भारतीय उद्योगपति Gautam Adani को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में सुनामी देखने को मिल रही है. अब तक का सबसे बड़ा नुकसान झेल रहे गौतम अडानी के लिए उठा-पटक के बीच एक अच्छी खबर आई है. उनकी कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) का फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) को 3,200 करोड़ रुपये की बड़ी बोली मिली है.

शेयरों में आए भूचाल के चलते गौतम अडानी की संपत्ति (Gautam Adani Net Worth) में जोरदार गिरावट आई है और इसके चलते महज हफ्तेभर से भी कम समय में वे दुनिया के टॉप-10 अरबपतियों (Top-10 Billionaiores) की लिस्ट से बाहर हो गए हैं. ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, गौतम अडानी की नेटवर्थ गिरकर 84.4 अरब डॉलर रह गई है और वे अमीरों की लिस्ट में 11वें नंबर पर आ गए हैं. एक ओर जहां उनकी कंपनियों के शेयर गिर रहे हैं, वहीं अडानी एंटरप्राइजेज का 27 जनवरी को ओपन हुआ एफपीओ बड़ी बोलियां हासिल कर रहा है. बिजनेस टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, अडानी के फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर को अबु धाबी बेस्ड कंपनी से 40 करोड़ डॉलर (लगभग 3,200 करोड़ रुपये) की बोली प्राप्त हुई है.

अबु धाबी स्थित इंटरनेशनल होल्डिंग कंपनी (IHC) ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह अपनी सहायक कंपनी ग्रीन ट्रांसमिशन इन्वेस्टमेंट होल्डिंग आरएचसी (Green Transmission Investment Holding RSC) के जरिए अडानी एंटरप्राइजेज में निवेश करने जा रही है. कंपनी ने कहा कि 20,000 करोड़ रुपये के फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर में वो 400 मिलियन डॉलर का निवेश करेगी. रिपोर्ट के मुताबिक, IHC ने अडानी एंटरप्राइजेज के 2.5 अरब डॉलर के FPO में 16 फीसदी की सब्सक्रिप्शन लिया है. यह आईएचसी का साल 2023 का पहला निवेश होगा.

सोमवार तक 3 फीसदी सब्सक्रिप्शन 
IHC का ये ऐलान भारत के अब तक के सबसे बड़े एफपीओ के लिए ऐसे समय पर आया है, जबकि ग्रुप भारी नुकसान में है. रिपोर्ट के मुताबिक, अडानी एंटरप्राइजेज के 20,000 करोड़ रुपये के FPO को दूसरे दिन सोमवार तक 13,98,516 शेयरों के लिए बोलियां मिलीं थीं, जो 4,55,06,791 शेयरों के प्रपोजल साइज का 3 फीसदी था. इसमें हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (HNI) सब्सक्रिप्शन 4 फीसदी, एंप्लाई कोटा कुल 13 फीसदी सब्सक्राइब हुआ था. इसके अलावा एफपीओ का रिटेल पोर्शन 4 फीसदी सब्सक्राइब किया गया था और QIB कैटेगरी में शून्य सब्सक्रिप्शन था. आज मंगलवार को सब्सक्रिप्शन का आखिरी दिन है.

एंकर निवेशकों से जुटाई इतनी रकम
रिपोर्ट के अनुसार, अडानी एंटरप्राइजेज के एफपीओ को एंकर निवेशकों की ओर से अच्छा रिस्पांस मिला था और इसने शेयर आवंटित कर Anchor Investors से पहले ही 5,985 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं. हिंडनबर्ग की निगेटिव रिपोर्ट का सामना कर रहे अडानी ग्रुप के एफपीओ पर नजर रखने वाले मार्केट एक्सपर्ट्स की मानें तो अगर पेशकश को कम से कम 90 फीसदी बोलियां मिलती हैं, तो यह मुद्दा टल सकता है. हालांकि, अबु धाबी बेस्ड कंपनी की ओर से मिली शानदार प्रतिक्रिया इस मुश्किल भरे दौर में एक खुशी की लहर से कम नहीं है. इससे इस बात को बल मिल रहा है कि निवेशकों का भरोसा उथल-पुथल के बीच भी गौतम अडानी पर कायम है.

अडानी ग्रुप के मार्केट कैप में भारी गिरावट
हिंडनबर्ग की रिपोर्ट सामने आने के बाद से शेयरों में जो गिरावट आई है, उसके चलते अडानी ग्रुप की कंपनियों के कुल मार्केट कैप जोरदार गिरावट देखने को मिली है. बिजनेस टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, महज तीन दिनों में ही कंपनियों का कुल मार्केट कैप 5.5 लाख करोड़ रुपये कम हो गया. बता दें कि फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (FPO) दरअसल, किसी कंपनी के लिए पैसे जुटाने का एक तरीका होता है. जो कंपनी पहले से शेयर मार्केट में लिस्टेड होती है, वो इन्वेस्टर्स के लिए नए शेयर ऑफर करती है. ये शेयर बाजार में मौजूद शेयरों से अलग होते हैं. इनमें ज्यादातर स्टॉक्स प्रोमोटर्स जारी करते हैं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch