Sunday , April 21 2024

इफ्तार आयोजित करने वाले BHU में होली खेलने पर रोक, विरोध में छात्र-छात्राओं ने DJ लगाकर खूब उछाले रंग: जमकर हुई कुर्ताफाड़ होली

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थिति बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) के प्रशासन ने कैंपस में विद्यार्थियों को होली खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया। आदेश में कहा गया कि जो भी इस आज्ञा का उल्लंघन करेगा, उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद प्रॉक्टर की आज्ञा का उल्लंघन करते हुए छात्र-छात्राओं ने जमकर होली खेली।

गुरुवार (2 मार्च 2023) को बीएचयू कैंपस में हर तरफ होली की मस्ती की मस्ती दिखी। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने बीएचयू प्रशासन की ओर से सार्वजनिक स्थानों पर होली न खेलने के निर्देश से नाराज छात्र-छात्राओं ने अलग अंदाज में विरोध किया। मधुबन से लेकर कला संकाय तक होली की मस्ती का रंग हर किसी पर नजर आ रहा था।

दृश्य कला संकाय के पास पानी के टब में उतरकर छात्र-छात्राओं ने होली खेली। वहीं, मधुबन में छात्रों ने कपड़ा फाड़ होली खेली। किसी की शर्ट फटी तो किसी का कुर्ता। इस दौरान कैंपस में डीजे बजता रहा है और छात्र-छात्राएँ फिल्मी और भोजपुरी गानों पर थिरक रहे।

बीएचयू प्रशासन द्वारा निकाले गए आदेश को लेकर बीएचयू के ABVP अध्यक्ष अभय सिंह ने कहा, “यह अनुचित आदेश है। इतने विशाल परिसर वाला बीएचयू, देश के शीर्ष संस्थानों में से एक है। अगर छात्रों को यहाँ होली नहीं खेलने दी जाएगी तो वे कहाँ खेलेंगे?”

चीफ प्रॉक्टर अभिमन्यु सिंह के नाम से जारी इस आदेश में कहा गया कि विश्वविद्यालय परिसर में सार्वजनिक स्थल पर एकत्रित होकर होली खेलना, हुड़दंग करना, संगीत बजाना पूर्णतया प्रतिबंधित है। ऐसा करने वालों के विरूद्ध प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी।

हालाँकि, यूनिवर्सिटी प्रशासन का यह आदेश जारी होने के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर बीएचयू प्रशासन की लोग आलोचना कर रहे हैं। सम्राट भाई नाम के यूजर ने लिखा, “रमजान के दौरान इफ्तारी की मेजबानी करने वाले बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति सुधीर जैन ने परिसर में होली पर प्रतिबंध लगा दिया है। शर्म करो कुलपति।”

बता दें कि यह वही विश्वविद्यालय है, जहाँ पिछले साल अप्रैल 2022 मे रोजा इफ्तारी का आयोजन किया गया था। इस मामले को लेकर बवाल हो गया था। इस पर BHU प्रशासन ने सफाई में कहा था कि विश्वविद्यालय में कई वर्षों से रोजा इफ्तार का आयोजन होता रहा है और विश्वविद्यालय परिवार का मुखिया होने के नाते कुलपति इसमें शामिल होते रहे हैं।

विश्वविद्यालय में रोजा इफ्तारी का आयोजन करने का विश्वविद्यालय होली के रंगों से डर रहा है और सार्वजनिक स्थानों पर इसे ना खेलने का निर्देश जारी किया। इतना ही नहीं, विश्वविद्यालय ने कहा कि जो भी इस आदेश का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई करने की भी धमकी दी है। हालाँकि, इसके विरोध में छात्र-छात्राओं ने जमकर होली खेली।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch