Sunday , May 26 2024

लोकतंत्र खत्म बताने पर भारतीय पत्रकार ने राहुल गांधी को लंदन में दिलाई दादी इंदिरा की याद

कैम्ब्रिज में अपने भाषण को लेकर सवालों में घिरे राहुल गांधी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। एक तरफ भारत में उनकी लगातार आलोचना हो रही है। वहीं, अब विदेश में भी उनसे इस बाबत सवाल पूछे जाने लगे हैं। ऐसा ही एक वाकया लंदन में आयोजित इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम के दौरान हुआ। इस दौरान एक व्यक्ति ने राहुल गांधी से उनकी दादी से जुड़ा एक ऐसा सवाल पूछ लिया, जिसे सुनकर वह लाजवाब हो गए। बाद में जब आयोजक ने सवाल के बारे में पूछा तो राहुल गांधी ने खुद ही कह दिया कि उनका कोई सवाल नहीं है।

राहुल गांधी लंदन में एक कार्यक्रम के दौरान लोगों के सवालों के जवाब दे रहे थे। इसी दौरान एक व्यक्ति राहुल गांधी से सवाल पूछने उठा। उसने बताया कि वह इंदिरा गांधी और जवाहर लाल नेहरू को काफी करीब से जानता था। फिर उसने कहा कि इंदिरा गांधी मोरार जी देसाई सरकार में जेल की सजा काटने के बाद लंदन पहुंची थीं। इसी दौरान एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एक पत्रकार ने इंदिरा गांधी से पूछा कि भारत में जेल में रहने के दौरान आपका अनुभव कैसा रहा? इसके जवाब में इंदिरा गांधी ने कहा कि मैं विदेशी धरती पर भारत के बारे में कोई भी खराब नहीं करना चाहूंगी।

हो गई बोलती बंद

इसके बाद उस शख्स ने जो कहा, उसने राहुल गांधी की बोलती बंद कर दी। सवाल पूछने वाले ने कहा कि एक ऐसे वक्त में जबकि कैम्ब्रिज में दिए भाषण को लेकर आपकी भारतीय मीडिया में लगातार आलोचना हो रही है, क्या आप अपनी दादी से कुछ सबक सीखेंगे? वह कहते हैं कि मैं आपकी दादी के साथ-साथ आपका भी शुभचिंतक हूं और एक दिन आपको प्रधानमंत्री बनते देखना चाहता हूं। इस दौरान कार्यक्रम के संचालक ने उस शख्स से पूछा कि आपका सवाल क्या है? इस पर राहुल गांधी खुद ही बोल पड़े-यहां इनका कोई सवाल ही नहीं है।

शुरू में खुश थे राहुल 
राहुल गांधी से सवाल पूछने वाले शख्स ने बताया कि वह साल 1961 से लंदन में रहता है। उसने बताया कि वह इंदिरा गांधी के काफी करीब रहा है और उन्हें बाल सहयोग के जरिए जानता था। आगे उन्होंने बताया कि वह जवाहर लाल नेहरू को भी जानता है और त्रिमूर्ति भवन जाकर नेहरू से मिलता था। इसके बाद राहुल गांधी पूछते हैं कि उनसे मुलाकात का अनुभव क्या रहा? इस पर शख्स बताता है कि जवाहर लाल नेहरू बेहद शानदार व्यक्ति थे। उन्होंने बताया कि वह नेहरू का पैर छूते थे और उनका आशीर्वाद लेते थे। इंदिरा गांधी को उन्होंने अपनी बहन समान बताया।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch