Sunday , May 26 2024

अमेरिकी सेना के दो ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर क्रैश, 9 की मौत… जानें इसकी War Power

अमेरिका के केंटकी में फोर्ट कैम्पबैल सैन्य इलाके से 48 किलोमीटर दूर दो सैन्य ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर क्रैश हो गए. इनमें बैठे 9 लोग मारे गए. फोर्ट कैम्पबेल प्रवक्ता नोंडिस थर्मने ने कहा कि हादसा 29 मार्च की रात में हुआ है. यह एक रूटीन ट्रेनिंग मिशन था.

Black Hawk Down
हादसे के बाद उठता आग का गोला और धुएं का गुबार. (फोटोः रॉयटर्स)

एक हेलिकॉप्टर में पांच जवान बैठे थे. जबकि, दूसरे में चार. क्रैश एक रिहायशी इलाके से थोड़ा दूर मौजूद मैदान में गिरे. ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर अमेरिकी मिलिट्री के लिए सबसे महत्वपूर्ण हेलिकॉप्टर हैं. ये हमला करने, ट्रांसपोर्ट करने, मेडिकल इवेक्यूएशन, सर्च और रेस्क्यू जैसे मिशन में काम आता है. इनका सबसे ज्यादा इस्तेमाल इराक और अफगानिस्तान में युद्द के दौरान अमेरिका ने किया.

एक महीने के अंदर दूसरी घटना

इससे करीब एक महीने पहले अलबामा हाईवे के पास दो ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर क्रैश हो गए थे. जिसकी वजह से 2 टेनेसी नेशनल गार्ड पायलटों की मौत हो गई थी. वह भी एक ट्रेनिंग एक्सरसाइज थी. ट्रेनिंग के दौरान हेलिकॉप्टर्स एकदूसरे के ऊपर से निकलते हैं लेकिन कभी बेहद नजदीक नहीं आते.

Black Hawk Down
हादसे के बाद मृतकों को खोजते आपदा एवं राहतकर्मी. (फोटोः रॉयटर्स)

इसलिए अमेरिकी सेना करती है इस्तेमाल

इस हेलिकॉप्टर को 2 पायलट मिलकर उड़ाते हैं. इसके अलावा इसमें दो क्रू होते हैं. यानी एक चीफ और दूसरा गनर. इसमें 11 लोग बैठ सकते हैं. या फिर 6 स्ट्रेचर डाल सकते हैं. 64.10 फीट लंबे हेलिकॉप्टर की ऊंचाई 16.10 फीट होती है. इसकी अधिकतम गति 294 किलोमीटर प्रतिघंटा होती है. जरुरत पड़ने पर ही 357 किलोमीटर प्रतिघंटा तक ले जाया जाता है.

Black Hawk Down

तगड़ी रेंज और खतरनाक हथियारों से लैस

इस हेलिकॉप्टर की रेंज 2221 किलोमीटर है. लेकिन युद्ध के दौरान यह पूरे हथियारों के साथ लैस होकर सिर्फ 600 किलोमीटर तक ही सेवा दे पाता है. अधिकतम 19 हजार फीट की ऊंचाई तक जा सकता है. इसपर तीन प्रकार के मशीनगन, मिनिगन या गैटलिंग गन लगा सकते हैं. वह भी जोड़े में.

इसके अलावा ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर पर 70 मिमी के 7 या 19 हाइड्रा-70 रॉकेट्स लगा सकते हैं. या फिर 4 एजीएम हेलफायर मिसाइल. या फिर 2 AIM-92 स्टिंगर मिसाइल लगाई जा सकती हैं. इसके अलावा इस पर वॉल्कैनो माइनफील्ड डिस्पर्सल सिस्टम बम भी लगाए जा सकते हैं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch