Wednesday , February 21 2024

माफिया अतीक को फिर साबरमती जेल से प्रयागराज लाया जाएगा, साबरमती जेल पहुंची UP पुलिस

लखनऊ। उत्तर प्रदेश से बड़ी खबर सामने आई है. माफिया अतीक अहमद को साबरमती जेल से वापस प्रयागराज उत्तर प्रदेश लाया जाएगा . यूपी पुलिस की टीम कोर्ट के आदेश की कॉपी लेकर साबरमती जेल पहुंची है. माना जा रहा है कि उमेश पाल हत्याकांड में अतीक अहमद को वापस लाने की तैयारी है. उससे उमेश पाल हत्याकांड में पूछताछ की जाएगी. इससे पहले उमेश पाल अपहरण कांड में उसे पिछले महीने साबरमती जेल से यूपी लाया गया था. तब माफिया ने उसके पुलिस एनकाउंटर का डर जाहिर किया था. प्रयागराज की एमपी एमएलए कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी. अब दोबारा रिमांड पर यूपी लाकर नैनी सेंट्रल जेल में बंद किया जाएगा.

कोर्ट पुलिस के इस तर्क को मंजूरी दे चुकी है कि बार-बार पूछताछ के लिए गुजरात से यूपी लाने के झंझट से बचने के लिए उसे स्थायी तौर पर ्प्रयागराज में रखा जाएगा. उसकी रिमांड कॉपी जेल प्रशासन को सौंपी जा चुकी है. नैनी सेंट्रल जेल में अतीक के लिए कड़ी सुरक्षा वाली बैरक भी तय कर ली गई है. जहां हमेशा कैमरों से लैस सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे. साथ ही हर पल निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे भी होंगे.

जानकारी के मुताबिक, साबरमती जेल प्रशासन को अतीक अहमद के रिमांड की जानकारी दी गई है. यूपी पुलिस कोर्ट का आदेश लेकर साबरमती पहुंची है. आदेश पर औपचारिक प्रक्रिया पूरी होने के बाद अतीक को दोबारा वापस लाया जाएगा. उधर, साबरमती जेल में बंद अतीक अहमद को जेल में झाड़ू लगाने और भैंसों को नहलाने का काम दिया गया है. उसे रोजाना की 25 रुपये की दिहाड़ी भी दी जाएगी.

उधर, अतीक अहमद के भाई अशरफ को भी दोबारा बरेली जेल से प्रयागराज लाए जाने की तैयारी हो रही है. माना जा रहा है कि उन सभी को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जा सकती है. गौरतलब है कि अतीक अहमद के बहनोई अखलाख के घर का वीडियो सामने आया है, जहां उमेश पाल हत्याकांड का आरोपी गुड्डू मुस्लिम आया था. इससे इन सभी के बीच साठगांठ के साफ संकेत मिलते हैं.

उमेश पाल हत्याकांड में अतीक अहमद का बेटा असद समेत 5 हत्यारोपी अभी तक फरार हैं. यूपी पुलिस और एसटीएफ लगातार उनकी तलाश में छापेमारी कर रही है और सबूतों को जोड़ने में जुटी है. अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन भी शिकंजा कसने के बाद से फरार है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch