Sunday , February 25 2024

9वीं की छात्रा के अपहरण का प्रयास, उत्तरकाशी में सड़क पर उतरा आक्रोशित हिन्दू समाज: रातोंरात फरार हुए 42 मुस्लिम दुकानदार

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के पुरोला इलाके में एक नाबालिग हिंदू छात्रा के अपहरण का प्रयास किए जाने के बाद बवाल मचा हुआ है। छात्रा पुरोला बाजार के ही एक दुकानदार की बेटी है। मामले को लव जिहाद से जोड़कर देखा जा रहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार, 26 मई, 2023 को 2 युवकों ने छात्रा के अपहरण की कोशिश की थी। इसे लेकर स्थानीय लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, शुक्रवार (31 मई, 2023) को उवेद खान और उसका साथी जितेंद्र सैनी खरसाड़ी इलाके की रहने वाली कक्षा नौवीं की छात्रा को बहला-फुसला कर अपने साथ ले जा रहे थे। छात्रा पुरोला में अपने मामा के घर रहकर पढ़ाई करती है। छात्रा को दोनों युवकों के साथ ऑटो रिक्शा पर जाता देख राहगीरों को शक हुआ। उन्होंने रिक्शा रुकवाकर पूछताछ की तो सच्चाई का पता चल सका।

दोनों नौजवानों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन घटना को लेकर स्थानीय लोगों में रोष है। मामला सामने आने के बाद पुरोला और आसपास के लोगों ने मुस्लिम तबके के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। विरोध कर रहे लोगों ने आपराधिक किस्म के बाहरी लोगों पुरोला छोड़कर जाने की चेतावनी दे दी। मंगलवार (30 मई ) को भी स्थानीय लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखीं और सड़कों पर रैली निकाली।

आरोपित युवक इलाके के कुमोला रोड पर दुकानें चलाते हैं। प्रदर्शन कर रहे पुरोला के स्थानीय लोगों ने अपराधिक किस्म के बाहरी लोगों को जल्द से जल्द पुरोला छोड़ने की चेतावनी दी है। इस संबंध में लोगों ने राज्यपाल को ज्ञापन देकर अपराधिक किस्म के व्यापारियों व अन्य लोगों को तत्काल हटाने की माँग की है। लोगों की नाराजगी को देखते हुए मुस्लिम समुदाय के 42 दुकानदार अपनी दुकानें छोड़कर रातों रात फरार हो गए हैं।

वीएचपी के स्थानीय नेता वीरेंद्र रावत ने का कहना है कि पुरोला में बाहर से आकर मुस्लिम समुदाय के लोग दुकानें खोलते हैं और मजदूरी करते हैं। इसके साथ-साथ वे स्थानीय लोगों का खासकर हिंदू युवतियों का ब्रेन वॉश करते हैं। उन्होंने बाहरी लोगों के पुलिस सत्यापन पर जोर दिया। स्थानीय लोगों ने सोमवार (29 मई) को एसडीएम देवानंद शर्मा से मुलाकात कर गैर-स्थानीय लोगों के पुलिस वेरिफिकेशन की माँग की।
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch