Friday , April 19 2024

मजार में रखा चाकू, दीवार पर बना उल्टा ॐ, 3 साल से घर में कैद परिवार की कहानी; रोशनदान तक कर दिए थे पैक

व्यापारी का घर.चित्रकूट/लखनऊ। यूपी के चित्रकूट से हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां पर एक व्यक्ति ने अपने परिवार को घर में कैद करके रखा हुआ था. पेशे से व्यापारी काशी केसरवानी के बारे में पता चला कि पिछले तीन साल से उसने अपनी पत्नी और बच्चों को घर के बाहर ही नहीं आने दिया है.

3 साल से घर में बंद था परिवार

दरअसल, चित्रकूट के कर्वी कोतवाली के अंतर्गत आने वाले तरौंहा कस्बे में रहने वाले व्यापारी काशी केसरवानी और उसके परिवार को चाइल्ड लाइन और पुलिस ने इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया है.

अस्पताल में एडमिट व्यापारी के बच्चे.
अस्पताल में एडमिट व्यापारी के बच्चे.

चाइल्ड लाइन टीम की दीपा शुक्ला के मुताबिक, तरौंहा में दुर्गाकुंज निवासी काशी केसरवानी ने 45 वर्षीय पत्नी पूनम, 13 साल के पुत्र रजत और 14 साल की पुत्री अर्शिता को पिछले तीन साल से घर के अंदर कैद कर रखा था.

मजार में धंसा था चाकू, दीवारों पर बना था उल्टा ओम 

चाइल्ड लाइन की दीपा शुक्ला ने बताया कि व्यापारी के घर में अंदर घुसने पर लगभग हर कमरे में हवन किए जाने का सामान पाया गया है. उसने एक कमरे में छोटी-सी मजार जैसी बना रखी थी और उसमें चाकू गड़ा हुआ था. दीवारों पर ॐ और ‘जय माता दी’ उल्टे अक्षरों में लिखा हुआ था.

काशी का घर.
काशी का घर.

पत्नी हो गई विक्षिप्त, बच्चे कमजोर

व्यापारी ने अपने घर के हर खिड़की और रोशनदान को इस तरह से पैक कर दिया था कि रोशनी और हवा तक घर के अंदर नहीं पहुंच पा रही थी. व्यापारी की इस अजीबोगरीब करतूत से उसकी पत्नी मानसिक रूप से विक्षिप्त हो गई और बच्चे शारीरिक रूप से बेहद कमजोर हो गए. वह  ठीक से चल फिर तक नहीं पा रहे थे.

अस्पताल में कराए गए भर्ती

चाइल्ड लाइन की दीपा शुक्ला के मुताबिक, टीम ने पूरे परिवार को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है. जहां डॉक्टरों ने पत्नी व बच्चों को इलाज के लिए प्रयागराज रेफर कर दिया है. व्यापारी काशी की काउंसलिंग कराने के बाद उसे दवाइयां खिलाई जा रही हैं.

व्यापार में हुआ घाटा, कैद किया परिवार

सामने आया है कि काशी को व्यापार में घाटा हो गया था. ऐसे में अपनी मुफलिसी छिपाने के लिए उसने पत्नी और दोनों बच्चों को घर में कैद कर दिया. बच्चों की पढ़ाई छुड़वा दी और उनके घर से निकलने पर पाबंदी लगा दी. खुद ही घर का सामान लेने के लिए बाहर जाता था.

ऐसा माना जा रहा है कि इस दौरान वह अंधविश्वास के चक्कर में पड़ गया. क्योंकि घर के अंदर दीवार पर बना ॐ, उल्टे अक्षरों में लिखा गया ‘जय माता दी’, मजार नुमा आकृति और उस पर धंसा हुआ चाकू, साथ ही घर के कमरों में मिली हवन सामग्री जैसी चीजें देखी गईं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch