Friday , April 19 2024

इस्लामी आतंकवाद की पोल खोलने आ रही हैं ’72 हूरें’, टीजर हुआ जारी: 9/11 से लेकर मुंबई सीरियल ब्लास्ट तक की दिखेगी कहानी

इस्लामिक आतंकवाद से पूरी दुनिया प्रभावित है। आतंक के आका काफिरों को मारने और जिहाद के लिए मुस्लिम युवकों को जन्नत और 72 हूरों का लालच देते हैं। इस लालच में फँसकर मुस्लिम आतंकी बन जाते हैं और फिर न केवल दूसरों बल्कि खुद को भी मारने के लिए तैयार हो जाते हैं। इस्लामवाद के इसी मिथक को तोड़ने के लिए ’72 हूरें’ (72 Hoorain First Look) नाम से फिल्म आ रही है। फिल्म 7 जुलाई 2023 को रिलीज होगी।

इस फिल्म का टीजर रविवार (4 जून, 2023) को जारी किया गया। फिल्म आतंक के आकाओं द्वारा मुस्लिमों को बहकाकर उन्हें 72 हूरों का लालच देकर आतंकी बनाने की घटनाओं पर आधारित है। पवन मल्होत्रा और आमिर बशीर स्टारर फिल्म ’72 हूरें’ के डायरेक्टर दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता संजय पूरन सिंह हैं। गुलाब सिंह तंवर, किरण डागर, अनिरूद्ध तँवर, अशोक पंडित फिल्म के प्रोड्यूसर हैं। फिल्म का टीजर ऐसे वक्त में आया है जब देश में ‘लव जिहाद’ की घटनाएँ लगातार सामने आ रहीं हैं। साथ ही आतंक और ‘लव जिहाद’ पर बनी फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ चर्चा में है।

’72 हूरें’ के टीजर (72 Hoorain Teaser) में साल 2011 में अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेन सेंटर में हुए आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार ओसामा बिन लादेन से लेकर, मुंबई हमले में पकड़े गए आतंकी अजमल कसाब तथा साल 1993 के मुंबई बम ब्लास्ट में शामिल याकूब मेनन, साल 1999 में दिल्ली प्लेन हाईजैक मामले के आरोपित आतंकी मशूद अजहर और 2006 के मुंबई ट्रेन बम ब्लास्ट के आरोपित आतंकी हाफिज सईद समेत कई आतंकियों के 72 हूरों के चक्कर में आतंकी बनने तथा उसके बाद मिली खौफनाक मौत (जो आतंकी मारे गए हैं) के बारे में बताया गया है।

फिल्म का टीजर (फर्स्ट लुक) शेयर करते हुए निर्माता अशोक पंडित ने एक ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है, “जैसा कि वादा किया गया था, हम आपके लिए हमारी फिल्म ’72 हूरें’ का फर्स्ट लुक पेश कर रहे हैं। मुझे यकीन है कि यह आपको पसंद आएगा। क्या होगा यदि आप आतंक के आकाओं द्वारा दिए गए आश्वासन के उलट ’72 कुँवारियों’ से मिलने की बजाए एक खौफनाक मौत मर जाते हैं। पेश है अपनी आने वाली फिल्म ’72 हूरें’ का फर्स्ट लुक। यह फिल्म 7 जुलाई, 2023 को रिलीज होगी।”

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch