Thursday , February 22 2024

G20 सम्मेलन के लिए रेलवे ने रद्द की सैकड़ों ट्रेनें, कई के रूट्स में किया बदलाव

नई दिल्ली। 9 और 10 सितंबर को होने वाले जी20 सम्मेलन की मेजबानी के लिए दिल्ली तैयार हो चुकी है। सम्मेलन की तैयरियां अपने अंतिम दौर में हैं। दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद कर दिया है। इस दौरान दिल्ली एक अभेद्य किले में तब्दील हो जायेगी। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए दिल्ली पुलिस समेत तमाम संस्थाओं ने कई बदलाव किये हैं। इसी बीच उत्तर रेलवे ने नई दिल्ली में G20 शिखर सम्मेलन के मद्देनजर, 9, 10 और 11 सितंबर को कुल 207 ट्रेन सेवाएं रद्द कर दी हैं और 36 ट्रेन सेवाएं शॉर्ट टर्मिनेट/शॉर्ट ओरिजिनेट करने का फैसला किया है।

दिल्ली पुलिस के जवानों को दिए जाएंगे चेन कटर 

G20 के लिए सब तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। दिल्ली पुलिस ने भी सुरक्षा के विशेष इंतजाम किये हैं। किसी भी तरह की समस्या निपटने के लिए पुलिस ने कई ख़ास इंतजाम किए हैं। जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस को जी20 शिखर सम्मेलन के लिए चेन और बोल्ट कटर दिए जाएंगे ताकि वे किसी भी तरह के असामान्य तरीकों से विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों से निपट सकें। सूत्रों के अनुसार, कटर खरीदने की मंजूरी कुछ खुफिया जानकारी के बाद दी गई थी। इसमें बताया गया था कि कुछ प्रदर्शनकारी शिखर सम्मेलन के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं। साथ ही कुछ उपद्रवियों के बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना को उनके होटल में निशाना बनाने की योजना है। इनसे निपटने के लिए पुलिस ने कई तैयारियां की हैं।

आयोजन स्थल और मार्गों में तैनात किए जाएंगे विक्रांत 

इसके साथ ही पुलिस प्रगति मैदान के भारत मंडपम समेत कई प्रमुख स्थलों के समीप विक्रांत नामक विशेष वाहनों की तैनाती करेगी, जिसमें एंटी-रॉयट्स इक्‍यूपमेंट मौजूद रहेंगे। मुख्य आयोजन स्थल के पास 6 लोकेशन पर ऐसे ट्रक तैनात किए जाएंगे। इन ट्रकों में 100 पुलिसकर्मियों के लिए उपकरण मौजूद रहेंगे। पुलिस की कोशिश घटनास्‍थल पर खुद की जान देने का प्रयास करने वाले लोगों को रोकने की भी है। जानकारी के अनुसार, इन ट्रकों में आंसू गैस के गोले, डंडे और कम से कम 100 पुलिसकर्मियों के लिए गियर जैसे दंगा-रोधी उपकरण होंगे।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch