Tuesday , June 18 2024

विदेशी मीडिया को लेकर घर-घर गई इजरायली सेना, मंजर देख कांप उठी आत्मा

इजरायल की सेना को किबुत्ज में मिले शवों के ढेर (तस्वीर- AP)हमास ने इजरायल पर शनिवार की सुबह महज 20 मिनट के भीतर 5000 रॉकेट दाग दिए. उसके हमलों में 900 से अधिक लोगों की मौत हो गई, 2100 से अधिक घायल हुए. अगर आप यही सब सुनकर हैरान हैं, तो जरा रुकिए… हमास ने इसके बाद जो किया, उसे सुनने के लिए मजबूत दिल होना जरूरी है. आतंकियों ने इजरायल के दक्षिणी हिस्से में स्थित कफर अजा किबुत्ज में जो किया है, उसे देखकर लोगों की आत्मा कांप उठी. ये नजारा विदेशी मीडिया ने पूरी दुनिया को दिखाया. यहां इजरायल की सेना भी इनके साथ पहुंची थी.

एक इजरायली सैनिक चिल्लाते हुए मीडिया से बोला, ‘जो कुछ भी आपने देखा, वो दुनिया को बता दो.’ इन्हीं शब्दों से आपने अंदाजा लगा लिया होगा कि ये सब कितना खौफनाक होगा. जब विदेशी मीडिया इजरायल के किबुत्ज पहुंची, तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई. उसके सामने जो मंजर था, वो देखकर शायद ही कोई अपनी आंखों पर यकीन कर पाए. यहां जगह जगह लाशें बिखरी पड़ी थीं. घरों में आग लगी मिली. फर्नीचर बिखरा हुआ था. कारें जलकर राख बन चुकी थीं. इजरायली सैनिक मृतकों के शव लेने घर-घर जा रहे थे.

हमास ने गजा पट्टी से हमला करने के बाद जहां सबसे ज्यादा खून खराबा किया, उनमें किबुत्ज भी शामिल है. यहां इजरायली डिफेंस फोर्सेज (IDF) के सैनिक विदेशी मीडिया को मंगलवार को लेकर पहुंचे. रिपोर्टर जब किबुत्ज में दाखिल हो रहे थे, तब हवा में शवों की दुर्गंध आ रही थी. इजरायली मेजर जनरल इताई वेरुव ने कहा, ‘आपने बच्चों, उनकी मां, पिता को उनके बेडरूम्स में, उनके प्रोटेक्शन रूम्स में देखा और ये भी देखा कि कैसे आतंकवादियों ने उन्हें मारा है. ये कोई युद्ध नहीं है, ये युद्ध का मैदान नहीं है. ये एक नरसंहार है, ये एक आतंकवादी गतिविधि है.’
हमास के आतंकियों ने किबुत्ज में खूब खून खराबा किया (तस्वीर- Reuters)
हमास के आतंकियों ने किबुत्ज में खूब खून खराबा किया (तस्वीर- Reuters)

चादर से ढका मिला शव

उन्होंने कहा, ‘ये कुछ ऐसा है, जो मैंने अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखा. ये कुछ ऐसा है, जिसकी कल्पना हम यूरोप और अन्य स्थानों में हुए नरसंहार को लेकर अपने दादा-दादी के समय करते थे.’ किबुत्ज में एक छोटे से घर के बाहर, एक शव पड़ा हुआ था. उस पर बैंगनी रंग की चादर पड़ी थी. चादर से शव का पैर बाहर निकल रहा था. तकिया और घर का बाकी सामान भी इधर उधर पड़ा था. आसपास कुछ बंदूकधारियों के शव भी मिले. किबुत्ज में एक गेट की हालत देखकर मालूम हुआ कि बंदूकधारी किस तरफ से यहां घुसे थे.

इजरायल की सरकार ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो भी शेयर किया है. उसके कैप्शन में 40 बच्चों की हत्या की बात कही गई है. इस मामले की पुष्टि तो नहीं की गई है. लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हमास के आतंकियों ने 40 मासूमों के सिर धड़ से अलग कर दिए. छोटे बच्चों को बेरहमी के साथ मारा गया है.

हमास के आतंकियों ने रॉकेट हमले के बाद इजरायल के दक्षिणी हिस्से में घुसपैठ कर खूब उत्पात मचाया. वो सेडरोट शहर के पास कफर अजा जैसी जगहों से दर्जनों लोगों को बंधक बनाकर ले गए. कई घर तो हमलों में बुरी तरह तबाह हो गए हैं. उनकी दीवारें या तो ढह गईं या जली हुई मिलीं. इजरायली सेना ने घर घर जाकर शवों को बॉडी बैग्स में डाला. वो इससे पहले यहां इसलिए नहीं आ पाए थे, क्योंकि हमास के आतंकियों को देश के अंदरूनी हिस्सों से बाहर खदेड़ना था.

धमाकों और गोलियों की आवाजें

सैनिक विदेशी मीडिया के साथ आगे बढ़े. उन्होंने किबुत्ज के मकानों की हालत देखी, जिनमें ज्यादातर एक मंजिला हैं. इन घरों में बड़े बरामदे, ताड़ के पेड़ और केले के पेड़ लगे थे. यहां से बम धमाकों और गोलियां चलने की आवाज साफ सुनी जा सकती थी. आसमान में जंगी जहाज उड़ते दिखे. गजा की तरफ से आसमान में धुंआ दिख रहा था. सायरन आने वाले रॉकेटों को ऊपर से रोके जाने की चेतावनी दे रहे थे. कुछ ऐसा मंजर था किबुत्ज का.

सेना के प्रवक्ता ने कहा कि हमास के हमलों में मारे गए लोगों की संख्या 900 से अधिक हो गई है. अधिकतर नागरिकों को उनके घरों, सड़कों और डांस पार्टी जैसे स्थानो में गोलियों से मारा गया है. इस हमले के आगे अमेरिका पर हुआ 9/11 हमला भी छोटा दिख रहा है. इसे इजरायल पर किया गया 50 साल का सबसे बड़ा हमला बताया जा रहा है. जिन लोगों को हमास ने बंधक बनाया है, उनके साथ भी बर्बरता हो रही है. आतंकी अपने साथ अधिकतर महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को ले गए हैं. फिलहाल इजरायल की पहली प्राथमिकता इन बंधकों को मुक्त कराना है. इसके साथ ही वो गजा पर हमले कर जवाबी कार्रवाई भी कर रहा है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch