Tuesday , June 18 2024

रिटायर्ड टीचर की हत्या के मामले में मुख्तार अंसारी को 10 साल की सजा, 5 लाख का जुर्माना

रिटायर्ड टीचर की हत्या के मामले में मुख्तार अंसारी को 10 साल की सजा, 5 लाख का जुर्मानाबाहुबली माफिया मुख्तार अंसारी को शुक्रवार को गाजीपुर के एमपी-एमएलए कोर्ट ने गैंगस्टर के मामले में दस साल की सजा सुनाई है और पांच लाख के जुर्माने का भी आदेश दिया है. इसके साथ ही कोर्ट ने मुख्तार के सहयोगी सोनू यादव को 5 साल की सजा सुनाई है और 2 लाख का जुर्माना भी लगाया है. कल इस मामले में कोर्ट ने दोषी करार दिया था. गाजीपुर के एमपी/एमएलए कोर्ट में बाहुबली अंसारी के खिलाफ गैंगस्टर का मामला चल रहा था. उनके खिलाफ करंडा थाने में गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दायर किया गया था. इसमें रिटायर्ड टीचर कपिल सिंह हत्याकांड एवं मीर हसन पर हत्या का मामला शामिल था. हालांकि 17 मई को इसी मामले में मुख्तार अंसारी को कोर्ट ने दोष रहित करार दिया था, लेकिन अब इस मामले में उसे 10 साल की सजा दी गई है.

बता दें कि मुख्तार अंसारी पहले ही रंगदारी, हत्या, लूट, अपहरण एवं कई अन्य केसों के तहत जेल की सजा काट रहे हैं. कुछ दिन पहले जेल की शिफ्टिंग के दौरान उन्होंने अपना एनकाउंटर की आशंका जताई थी. उनकी आशंका थी कि शिफ्टिंग के दौरान उनका एनकाउंटर हो सकता है.

दूसरी ओर, इस फैसले के बाद मुख्तार अंसारी के वकील लियाकत ने कहा कि इस फैसले के खिलाफ वे लोग हाईकोर्ट में अपील करेंगे. उन्होंने आशा जताई कि उन लोगों को हाईकोर्ट से न्याय मिलेगा. कोर्ट के आदेश के बाद उन्होंने हाईकोर्ट में अपील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

एमपी-एमएलए कोर्ट के जज अरविंद मिश्र की कोर्ट ने गुरुवार को गैंगस्टर मामले में मुख्तार अंसारी को दोषी करार दिया था. आज कोर्ट ने जब सजा का ऐलान किया तो मुख्तार अंसारी ने कहा कि इस मामले से उनका कोई लेना-देना नहीं है. वह साल 2005 से जेल में कैद हैं.

गैंगस्टर मामले में मुख्तार अंसारी को मिली सजा

गाजीपुर कोर्ट से गैंगस्टर एक्ट के तहत बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी को तीसरे केस में सजा मिली है. इससे पहले इसी कोर्ट ने अवधेश राय की हत्या एवं कृष्णा नंद राय की हत्या के बाद दर्ज हुए गैंगस्टर मामले में सजा सुनाई थी.

बता दें कि कपिल देव सिंह की 19 अप्रैल 2009 को हत्या हुई थी. मीर हसन पर 24 नवंबर 2009 को अटैक हुआ था. इन दोनों मामलों को जोड़कर गैंगस्टर एक्ट के तहत केस शुरू किया गया था. इनके मुख्य केस में मुख्तार अंसारी को पहले बरी कर दिया गया था, लेकिन पुलिस ने 120 बी तहत दोनों मामले में मुख्तार अंसारी पर साजिश रचने का मामला दर्ज किया था. अब इस केस में मुख्तार अंसारी को सजा मिली है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch