Tuesday , June 18 2024

संजय सिंह के बाद सिसोदिया के घर राकेश टिकैत, AAP से हमदर्दी पर अटकलें

संजय सिंह के बाद सिसोदिया के घर राकेश टिकैत, AAP से हमदर्दी पर अटकलेंनई दिल्ली। किसान नेता राकेश टिकैत गुरुवार को जेल में बंद आम आदमी पार्टी (आप) के नेता मनीष सिसोदिया के घर पहुंचे। टिकैत ने पूर्व उपमुख्यमंत्री की बीमार पत्नी से मुलाकात की और उनका हालचाल लिया। बाहर निकलने के बाद टिकैत ने सिसोदिया के जेल जाने को सरकार के खिलाफ बोलने का नतीजा बताया। टिकैत हाल ही में संजय सिंह के घर भी पहुंचे थे। आम आदमी पार्टी के नेताओं से टिकैत की इस हमदर्दी ने नई अटकलों को जन्म दे दिया है।

संजय सिंह ने गुरुवार को मनीष सिसोदिया के सरकारी आवास में जाकर उनकी पत्नी और परिवार के अन्य सदस्यों से बातचीत की। मुलाकात के बाद टिकैत ने कहा कि जो सरकार के खिलाफ बोलता है उसके साथ ऐसा होता है। उन्होंने सिसोदिया को कोर्ट पर भरोसा रखने को कहा। टिकैत ने पीटीआई से कहा, ‘ठीक रही मुलाकात। उनकी (सिसोदिया) पत्नी से मिले और परिवार के अन्य सदस्यों से मुलाकात हुई। यही है कि यह तो आंदोलनकारियों का होता है, जो बोलता है उसे जेल मिलती है। जो बोलोगे खिलाफ तो सरकार कहीं ना कहीं बांधती है तो इससे घबराने की जरूरत नहीं है। कोर्ट पर भरोसा रखना चाहिए।”

राकेश टिकैत ऐसे समय पर सिसोदिया के घर पहुंचे जब हाल ही में आप नेता की एक भावुक तस्वीर सामने आई थी। शराब घोटाले के आरोप में गिरफ्तार किए गए मनीष सिसोदिया इस साल फरवरी से ही जेल में बंद हैं। उन्हें 11 नवंबर को 6 घंटे तक बीमार पत्नी से मुलाकात की इजाजत दी गई थी। मुलाकात के बाद घर से निकलते हुए सिसोदिया पत्नी से गले लगकर रोने लगे थे। कथित शराब घोटाले से जुड़े इसी केस में पिछले महीने गिरफ्तार किए गए संजय सिंह के घर पभी हाल ही में टिकैत पहुंचे थे। उन्होंने संजय सिंह की गिरफ्तारी का भी विरोध किया था।

AAP नेताओं से क्यों हमदर्दी?
खुद को गैर राजनीतिक और किसानों का नेता कहने वाले राकेश टिकैत की आम आदमी पार्टी के नेताओं से हमदर्दी की खूब चर्चा हो रही है। कुछ लोग इसे आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर संभावित किसी रणनीति से जोड़ रहे हैं। हालांकि, टिकैत को करीब से जानने वाले कुछ सूत्रों का कहना है कि यह सिर्फ शिष्टाचार भेंट है। उन्होंने यह जरूर कहा कि किसान आंदोलन के दौरान जिस तरह आम आदमी पार्टी ने टिकैत का समर्थन किया था उसकी वजह से मधुर संबंध स्वभाविक हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch