Thursday , June 20 2024

अमेरिका में फिर हिंदू मंदिर पर हमला: आतंकी भिंडरावाला को बताया ‘शहीद’, PM मोदी के लिए लिखा ‘टेररिस्ट’

स्वामीनारायण मंदिर, कैलिफोर्निया अमेरिकाखालिस्तानी आतंकी गुरुपतवंत सिंह पन्नू की कथित हत्या की साजिश रचने का आरोप भारत पर लगाने वाले अमेरिका में एक बार फिर हिंदू मंदिरों को निशाना बनाया गया है। कैलिफोर्निया के नेवार्क के एक मंदिर में खालिस्तान समर्थकों द्वारा यह हमला किया गया है। इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

अमेरिका के हिंदू-अमेरिकन फाउंडेशन ने भी इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर लिखा है कि खालिस्तानियों ने कैलिफोर्निया के नेवार्क में स्वामीनारायण मंदिर वासना संस्था को निशाना है। खालिस्तानियों ने मंदिर की दीवारों ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘शहीद भिंडरावाले जिंदाबाद’ लिखा है। इसके साथ ही पीएम मोदी को आतंकी कह दिया है।

इस घटना की जानकारी नेवार्क पुलिस के साथ-साथ सिविल राइट्स अधिकारियों को भी दे दी गई है। हिंदू-अमेरिकन फाउंडेशन का कहना है कि इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि घटना की जाँच पुलिस इसे हेट क्राइम मानकर करे। पुलिस ने आश्वस्त किया है कि इस मामले की गहन जाँच की जाएगी।

यह पहली बार नहीं है, जब अमेरिका में इस तरह की घटना हुई हो। फरवरी 2019 में अमेरिका के केंटकी राज्य में स्थित स्वामीनारायण संप्रदाय के एक हिन्दू मंदिर में हुई तोड़-फोड़ की गई थी। इस घटना में स्वामीनारायण की मूर्ति पर काला पेंट छिड़क दिया गया था। इसके साथ ही मुख्य सभा में रखी हुई कुर्सियों में चाकू भी गोदा गया था।

वहीं, दो दिन पहले पीएम मोदी ने ब्रिटिश अखबार फाइनेंशियल टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि इस संबंध में अगर अमेरिका सबूत देता है तो उस पर गौर किया जाएगा। पीएम ने कहा था कि इन कुछ घटनाओं से भारत-अमेरिका संबंधों पर असर नहीं पड़ेगा।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने खालिस्तानियों पर भी निशाना साधा था। खालिस्तानियों को लेकर उन्होंने कहा था, “ये लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में डराने-धमकाने और हिंसा भड़काने में लगे हुए हैं।” पीएम ने जोर देते हुए ये भी कहा कि भारत और अमेरिका के बीच संबंधों की अहम कड़ी सुरक्षा और आतंकवाद के खिलाफ सहयोग है।

जिस पन्नू की हत्या की साजिश को लेकर अमेरिका ने इतना बवाल खड़ा किया है, वह भारत में घोषित आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू है। वो प्रतिबंधित सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) संगठन का सरगना है और भारत के खिलाफ आग उगलता रहता है। उसके पास संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा की दोनों देशों की नागरिकता है।

इसको लेकर कनाडा के साथ भारत के रिश्तों में खटास आ गई है। भारत ने कनाडा के नागरिकों के वीजा पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके साथ ही दिल्ली स्थित कनाडा के राजयनिकों की संख्या में कटौती भी कर दी थी। हालाँकि, दोनों देशों के संबंध अब धीरे-धीरे पटरी पर आ रहे हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch