Tuesday , June 25 2024

‘सपा नेताओं को न भेजें प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण…’, BJP सांसद सुब्रत पाठक ने लिखी राम मंदिर ट्रस्ट को चिट्ठी

अयोध्या राम मंदिर (सांकेतिक फ़ोटो) “BJP सांसद सुब्रत पाठक ने राम मंदिर का न्योता सपा नेताओं की बात करते हुए कहा, इनको अयोध्या में प्रवेश से भी रोका जाए,  कर्नाटक सरकार द्वारा हिजाब पर रोक हटाने पर कहा कि क्या अब कॉलेज में हिन्दू भी जाएंगे धोती, कुर्ता, तिलक और जनेऊ पहनकर, कहा ओवैसी देश का दूसरा जिन्ना”

ओवैसी को लेकर की टिप्पणी
कन्नौज से बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक ने अयोध्या में होने वाले राम मंदिर में रामलाल की प्राण प्रतिष्ठा के आयोजन में समाजवादी पार्टी के नेताओं को न्योता न भेजने को लेकर राम मंदिर ट्रस्ट को पत्र लिखा है. उन्होंने मांग की है कि, राम भक्तों पर गोली चलाने वालों को निमंत्रण न दिया जाए. इतना ही नहीं सुब्रत पाठक ने कर्नाटक में सिद्धारमैया सरकार द्वारा शिक्षण संस्थानों से हिजाब पर लगे प्रतिबंध को हटाने के आदेश पर कहा कि तो क्या अब हिंदू कॉलेज में धोती कुर्ता तिलक और जनेऊ पहनकर जाएंगे?

संसद में पास हुए तीन क्रिमिनल बिल पर असदुद्दीन ओवैसी की नाराजगी पर बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक ने कहा कि इस कानून से सबसे ज्यादा दिक्कत आतंकवादी और आतंकवादियों को संरक्षण देने वालों को होगा और ओवैसी भी आतंकवादियों को संरक्षण देते हैं और पाकिस्तान की तरह एक बार फिर देश का बंटवारा करना चाहते हैं. ओवैसी देश का दूसरा जिन्ना है.

‘मंदिर बनने पर हमेशा अडंगा लगाते रहे लोग’

बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक ने बताया कि बीते कुछ दिनों से यह देखने में आ रहा है कि तमाम नेता यह बोल रहे हैं कि उन्हें राम मंदिर को लेकर निमंत्रण नहीं भेजा गया है. लेकिन यही वह नेता हैं जिन्होंने राम भक्तों पर गोलियां चलवाई थीं और राम मंदिर बनने में भी हमेशा अड़ंगेबाजी करते रहे. यह लोग हमेशा भारतीय जनता पार्टी के नेता और आस्थावानो को चिढ़ाते रहे कि मंदिर वहीं बनाएंगे समय नहीं बताएंगे. मंदिर न बनने पाए इसको लेकर यह लोग हमेशा सतत प्रयास करते रहे थे.

सपा पर साधा निशाना
उन्होंने आगे बताया कि 1947 में विभाजन के वक्त जब इस्लाम के नाम पर अलग देश बना और जब सोमनाथ मंदिर बना इस वक्त राम मंदिर भी बनाया जाना चाहिए था, लेकिन बनने नहीं दिया गया. राम मंदिर का मामला न्यायालय गया और सुप्रीम कोर्ट भी पहुंचा. इन नेताओं ने वकील भी खड़े किए ताकि राम मंदिर ना बनने पाए. इन लोगों ने दलील दी थी कि मंदिर न बनाकर वहां अस्पताल बना दिया जाए और ऐसे लोग आज राम मंदिर जाने के लिए लालायित हैं.

समाजवादी पार्टी ने तुष्टिकरण की सारी हदें ही पार कर दी. जिस तरह से समाजवादी पार्टी ने निर्दोष राम भक्तों पर गोलियां चलवाई और निर्मम हत्या करवाई उसको भुलाया नहीं जा सकता है. अयोध्या ही नहीं, बल्कि देश भर के लोगों के जहन में आज भी वह तस्वीर बसी हुई है. इन लोगों ने नारा भी दिया कि ‘मिले मुलायम कांशीराम हवा में उड़ गए जय श्री राम’.

हिजाब मामले पर भी बोले बीजेपी सांसद
कर्नाटक की सिद्धारमैया की सरकार द्वारा हिजाब पर लगे प्रतिबंध को हटाने के विचार पर बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक ने बताया कि कांग्रेस देश के विभाजन के लिए जिम्मेदार है और देश में जो भी कुछ हुआ वह बहुत खतरनाक है. यह विभाजन धार्मिक आधार पर हुआ और देश में तुष्टिकरण की राजनीति शुरू कर दी गई. जिसके चलते आतंकवाद को पनाह और संरक्षण दिया गया. ऐसा करके अलगाव आज पैदा किया जा रहा है. कॉलेज में जाने पर क्या लोग अपने पहनावे से पहचाने जाएंगे? कि यह हिंदू है और मुसलमान है? तो क्या अब हिंदूओ को कॉलेज में धोती कुर्ता पहनकर जाएगा? अगर ऐसा ही होता रहेगा तो देश का भविष्य किधर लेकर जाना चाहते हैं? उन्होंने कहा निश्चित रूप से सामान नागरिक संहिता का निर्णय और देश को एक करेंगे.

ओवैसी पर भी साधा निशाना

AIMIM अध्यक्ष असुद्दीन ओवैसी द्वारा 3 क्रिमिनल बिल के पास होने पर विरोध दर्ज कराते हुए यह बयान देना कि इससे सबसे ज्यादा नुकसान दलित आदिवासी और मुसलमान का होगा और पुलिस को पूरी छूट मिल जाएगी पर BJP सांसद ने कहा कि, कानून से सबसे ज्यादा नुकसान आतंकवादियों को संरक्षण देने वालों का होगा. निश्चित रूप से ओवैसी आतंकवादियों को संरक्षण देता है और यह देश का दूसरा जिन्ना है. यह देश का और एक विभाजन पाकिस्तान जैसे करना चाहता है.

सपा सांसद बोले- हमारे जाने का तो सवाल ही नहीं
उधर, बीजेपी सांसद के सपा नेताओं पर निशाना साधने के बाद सपा सांसद शफीकुर रहमान मे पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि, ‘हम तो इसमें किसी भी हालत में शरीक ही नहीं हो सकते हैं. बल्कि मुसलमानों की बाबरी मस्जिद अपनी जगह पर थी और कुछ भी गलत नहीं था. मस्जिद को मंदिर बना दिया गया और मस्जिद को खत्म करके वहां पर मंदिर बनाया गया. इसलिए मुसलमान की शिरकत का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है बल्कि वो गम का दिन मनाएंगे.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch