Sunday , February 25 2024

ललन सिंह के इस्तीफे पर बिहार बीजेपी का सामने आया बयान, नीतीश कुमार को लेकर सम्राट चौधरी ने कही ये बात

नीतीश कुमार के साथ ललन सिंह- India TV Hindiपटना। जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राजीव रंजन सिंह ऊर्फ ललन सिंह के जेडीयू अध्यक्ष पद से इस्तीफे पर बिहार बीजेपी का भी बयान सामने आया है। प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने ललन सिंह के इस्तीफे को जेडीयू का मामला बताया है। उन्होंने कहा कि ये जेडीयू का आंतरिक मामला है। यह वहां की लड़ाई है। बीजेपी को इससे कोई लेना देना नही है। उन्होंने कहा कि जेडीयू वन मैन की पार्टी है। वहां कोई दूसरा नेता नेता नहीं है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना करते हुए सम्राट चौधरी ने कहा कि जेडीयू में सिर्फ एक ही नेता है वो है नीतीश, दूसरा कोई नेता नहीं है। नीतीश कुमार कभी आरसीपी सिंह को अध्यक्ष बनाए, कभी ललन सिंह को बनाए। कभी और किसी को बनाएंगे। सम्राट चौधरी ने कहा कि नीतीश कुमार एक प्राइवेट लिमिटेड पार्टी हैं।

नीतीश को एनडीए में शामिल करने पर नहीं चल रही बात

नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने के सवाल पर सम्राट चौधरी ने कहा कि इस पर कोई चर्चा नहीं चल रही है। इस पर कोई चर्चा नहीं चल रही है। चौधरी ने कहा कि बीजेपी का मानना है कि हम पूरे महागठबंधन और INDIA गठबंधन को हराने के लिए तैयार हैं। बिहार में आरजेडी और जेडीयू मिलकर भी लड़ेगी तो भी बीजेपी हरा देगी।

ललन सिंह को इस्तीफा देना ही थाः विजय

ललन सिंह के इस्तीफे पर बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि एक स्वाभिमानी व्यक्ति कभी इस प्रकार की विदाई स्वीकार नहीं करता है। जब पार्टी और नेतृत्व का विश्वास नहीं रहे तो उस पद पर रहने का कोई औचित्य नहीं रहता है। इन्हें(ललन सिंह) पहले ही इस्तीफा दे देना चाहिए था।

जेडीयू नेताओं ने बताई ललन सिंह के इस्तीफे की वजह

बता दें कि जनता दल (यूनाइटेड) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की शुक्रवार को हुई बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया गया। जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने कहा कि ललन सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और नीतीश कुमार को अध्यक्ष बनाए जाने का प्रस्ताव रखा। बिहार सरकार के वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ललन सिंह ने कार्यकारिणी की बैठक में बताया कि वह लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं और इसके मद्देनजर अपनी व्यवस्तता को देखते हुए वह अपने पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

 

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch