Tuesday , June 25 2024

सीएम केजरीवाल को नहीं मिली राहत, 1 अप्रैल तक बढ़ी ईडी रिमांड

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवालदिल्ली के शराब नीति मामले में गिरफ्तार किए गए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेकर ईडी की टीम गुरुवार दोपहर को राउज एवेन्यू कोर्ट में पहुंची. जहां ईडी और केजरीवाल दोनों की तरफ से जोरदार दलीलें दी गईं. दलीलें सुनने के बाद अदालत ने केजरीवाल की ईडी रिमांड 5 दिनों के लिए बढ़ा दी. दरअसल, आज गुरुवार को केजरीवाल की 10 दिनों की रिमांड पूरी हो गई थी. इसके बाद ईडी ने उन्हें कोर्ट में पेश करके 7 दिनों की ओर रिमांड मांगी.

केजरीवाल की दलील

-वहीं केजरीवाल ने कोर्ट के समक्ष अपनी गिरफ्तारी का विरोध करते हुए कहा, ‘ये केस दो साल पहले से चल रहा है. अगस्त 2022 को सीबीआई का केस फाइल हुआ था. Fir ECIR हुई थी. मुझे गिरफ्तार क्यों किया गया जबकि किसी भी अदालत ने मुझे दोषी नहीं माना है. ईडी की मंशा मुझे अरेस्ट करने की थी. मेरा नाम सिर्फ चार लोगों के बयान में आया. जिन लोगों ने मेरे पक्ष में बयान दिया था उनके बयान जबरन मेरे विरोध में दिलावाए गए हैं. ये AAP को तोड़ना चाहते हैं. ‘

-इस पर जज ने कहा कि आप लिखित में बयान क्यों नहीं देते हैं. केजरीवाल ने कहा, ‘ये मामला फिलहाल दो साल से चल रहा है. ईडी ने 25000 पन्नों की जांच की है. क्या एक बयान एक मौजूदा सीएम को गिरफ्तार करने के लिए काफी है? हम हर हालात का सामना करने को तैयार हैं. ‘

-केजरीवाल ने एमएसआर (मगुंटा रेड्डी, शराब घोटाले में सरकारी गवाह) का बयान पढ़ते हुए कहा कि, ‘वह 4:30 बजे मुझसे मिलने आये. वह दिल्ली में अपना धर्मार्थ संगठन खोलना चाहते थे और जमीन मांगी, मैंने कहा कि मैं एलजी को भेजूंगा…. एमएसआर पिता और पुत्र ने ईडी के सामने 6 बयान दिए लेकिन ईडी ने केवल 7वें बयान का इस्तेमाल किया गया. शरथ रेड्डी ने नौ बयान दिए लेकिन किसी में भी मेरा नाम नहीं था.’

-केजरीवाल ने कहा, ‘ईडी इस मामले में गुमराह कर रही है और ऐसी छवि बना रही है कि AAP एक भ्रष्ट पार्टी है. मनी ट्रेल स्थापित हो गया है कि सरथ चंद्र रेड्डी की जमानत मिलने के तुरंत बाद बीजेपी को 55 करोड़ रुपये दिए गए. हम रिमांड का सामना करने को तैयार हैं. हम रिमांड का विरोध नहीं कर रहे हैं. हमारे पास बांड की प्रतियां भी हैं.’  इस पर ईडी ने केजरीवाल के कोर्ट में बोलने का विरोध किया.

-केजरीवाल के वकील ने कहा, ‘ क्या वह मुझे अपने फोन का पासवर्ड देने के लिए मजबूर कर सकते हैं? इससे पहले कोर्ट पहुंचने पर मीडिया के सवाल का जवाब देते हुए केजरीवाल ने कहा कि ये राजनीतिक षड़यंत्र हैं और जनता इसका जवाब देगी.

दिल्ली के चार मंत्री भी कोर्ट परिसर में थे मौजूद

राउज़ एवेन्यू कोर्ट में सुनीता केजरीवाल के अलावा दिल्ली के 4 कैबिनेट मंत्री गोपाल राय, सौरभ भारद्वाज, आतिशी और राज कुमार आनंद भी मौजूद रहे.उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल ने दावा किया था कि अरविंद केजरीवाल कोर्ट के अंदर शराब घोटाले में बड़ा खुलासा करेंगे. ऐसे में सबकी नजर राउज एवेन्यू कोर्ट पर थी कि आखिर केजरीवाल ऐसा कौन सा बड़ा खुलासा करने वाले हैं.

हाईकोर्ट से नहीं मिली राहत

इससे पहले बुधवार को ही दिल्ली हाईकोर्ट से अरविंद केजरीवाल को उस वक्त तगड़ा झटका लगा जब अदालत ने उनकी गिरफ्तारी और उनकी ईडी कस्टडी के मामले में कोई राहत देने से इनकार कर दिया. इस मामले में कोर्ट ने ईडी से जवाब मांगा और इसकी अगली सुनवाई 3 अप्रैल को तय की है. उधर केजरीवाल की गिरफ्तारी से घमासान बढ़ गया है. बीजेपी औऱ आम आदमी पार्टी लगातार एक-दूसरे के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.

शराब घोटाले में गिरफ्तार हुए थे केजरीवाल
आपको बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ईडी ने लगभग दो घंटे की पूछताछ के बाद 21 मार्च को उनके आधिकारिक आवास से गिरफ्तार किया था. दिल्ली शराब घोटाले में उन्हें राउज एवेन्यू कोर्ट ने 28 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया था. अपनी गिरफ्तारी के बाद भी अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं दिया है. आम आदमी पार्टी के नेताओं का कहना है कि वह दिल्ली के मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जरूरत पड़ने पर जेल से सरकार चलाएंगे.

क्या थी नई शराब नीति?
– 22 मार्च 2021 को मनीष सिसोदिया ने नई शराब नीति का ऐलान किया था.
– 17 नवंबर 2021 को नई शराब नीति यानी एक्साइज पॉलिसी 2021-22 लागू कर दी गई.
– नई शराब नीति आने के बाद सरकार शराब के कारोबार से बाहर आ गई. और पूरी शराब की दुकानें निजी हाथों में चली गई.
– नई नीति लाने के पीछे सरकार का तर्क था कि इससे माफिया राज खत्म होगा और सरकार के रेवेन्यू में बढ़ोतरी होगी.
– हालांकि, नई नीति शुरू से ही विवादों में रही. जब बवाल ज्यादा बढ़ गया, तब 28 जुलाई 2022 को सरकार ने नई शराब नीति रद्द कर फिर पुरानी पॉलिसी लागू कर दी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch