Friday , June 14 2024

लखनऊ में पत्नी और दो बच्‍चों की हत्‍या, फिर लाशों के साथ बिताई दो रात, अवैध संबंध के शक में परिवार तबाह

lucknow-murderलखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अवैध संबंधों का शक होने पर एक युवक ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद वह कमरे में ताला लगाकर काम पर चला गया। फिर रात में घर आकर दो दिन तीनों लाशों के साथ ही सोया। रविवार को कमरे से बदबू आने पर पड़ोस के लोगों ने मकान मालिक और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरे का ताला तोड़ा। अंदर कमरे की हालत देखकर सभी दंग रह गए। पुलिस के मुताबिक, आरोपी रामलगन को अपनी पत्नी पर शक था कि उसका अवैध संबंध किसी युवक से है। बच्चों को उसने इसलिए मार डाला जिससे कि वो किसी और को इस घटना की जानकारी ना दे पाएं।

डीसीपी दक्षिण तेज स्वरूप सिंह ने बताया कि बिजनौर थाना क्षेत्र के सरवन नगर में अमृत लाल गौतम का मकान है। इसमें करीब 15 दिन पहले रामलगन नाम का व्यक्ति अपनी पत्नी ज्योति, 6 साल की बेटी पायल और करीब 4 साल के बेटे आनंद के साथ रहने आया था। रविवार को मकान से बदबू आने पर स्थानीय लोगों ने अमृत लाल को सूचना दी जिसके बाद वह मकान में पहुंचे और देखा कि कमरे में ताला लगा है। उसी के अंदर से बदबू आ रही थी। इस पर मकान मालिक ने पुलिस सूचना दी। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल जांच पड़ताल शुरू की। इसके बाद मकान मालिक की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया। वहीं मोबाइल नंबर के आधार पर आरोपी रामलगन को सोहरामऊ से गिरफ्तार कर किया गया।

7 साल पहले मुंबई में हुई थी मुलाकात

डीसीपी के मुताबिक, रामलगन ने 29 मार्च की सुबह इस घटना को अंजाम दिया था। उसने पहले पत्नी ज्योति को दुपट्टे से गला कसकर मौत के घाट उतारा फिर दोनों बच्चों का गला दबाकर मार दिया और बोरी में भर दिया। रामलगन को अपनी पत्नी के अवैध संबंध होने का शक था। वह कानपुर रोड के गौरी में भी कमरा लेकर किराए पर रहता था। बच्चों की हत्या करने को लेकर उसने बताया कि पत्नी को मारने की बात वे लोग किसी को बता सकते थे। इसलिए दोनों बच्‍चों को भी मार दिया। रामलगन करीब 7 साल पहले मुंबई में ज्योति से मिला था। काफी समय वहां बिताने के बाद 4 साल से ये लखनऊ के सरोजनीनगर थाना क्षेत्र के गौरी बाजार में किराए पर रह रहे थे।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch