Saturday , July 20 2024

UP Police का वो नियम जिसके तहत लेडी कॉन्स्टेबल संग होटल में पकड़े गए डिप्टी एसपी बन गए सिपाही

यूपी पुलिस में डिप्टी एसपी बना सिपाही.

डिप्टी एसपी कृपा शंकर कनौजिया को उसकी नियुक्ति के मूल पद सिपाही पर भेज दिया गया है. उन्नाव में सीओ बीघापुर रहे कृपाशंकर कनौजिया को सिपाही बनाया दिया गया है. कृपाशंकर कनौजिया को 26वीं वाहिनी पीएसी गोरखपुर में आरक्षी पद पर तैनात किया गया है.

महिला सिपाही के साथ होटल में पकड़े जाने वाले सर्किल ऑफिसर कृपा शंकर कनौजिया फिर से सिपाही बना दिए गए. खास बात यह है कि सिपाही पद पर पुलिस में भर्ती होने वाले कृपा शंकर अपनी प्रतिभा और मेहनत के बलबूते प्रमोट होकर सीओ के पद तक पहुंचे थे, लेकिन चारित्रिक पतन के चलते उन्हें वापस शुरुआती पद पर पहुंचा दिया गया. पुलिस आचरण नियमावली का उल्लंघन करने पर विभाग ने यह कार्रवाई की है.

CO पद रहते कृपा शंकर कन्नौजिया जुलाई 2021 में कानपुर के एक होटल में महिला कॉन्स्टेबल के साथ एक होटल में आपत्तिनजक हालत में पकड़े गए. तब शासन ने सीओ को 26वीं वाहिनी गोरखपुर भेज दिया था और पुलिस नियमावली का उल्लंघन करने पर उनके खिलाफ जांच बैठा दी गई.

पुलिस आचरण नियमावली का उल्लंघन करने के दोषी पाए जाने पर सीओ कृपाशंकर के खिलाफ एक्शन लिया गया. यानी चरित्र की कमजोरी की वजह से एक डिप्टी एसपी अफसर फिर से सिपाही पद पर पहुंच गया.

ADVERTISEMENT

जांच रिपोर्ट के बाद बीते 21 जून 2024 को कृपा शंकर कन्नौजिया को सीओ पद से सिपाही बनाने के आदेश जारी कर दिए गए. इस आदेश की प्रति रिसीव करने के बाद से ही अब कृपा शंकर 26वीं वाहिनी गोरखपुर से गायब हो गए हैं. गैरहाजिर रहने पर अब विभाग के मुंशी ने सिपाही कृपाशंकर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है.

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, तत्कालीन उन्नाव के सीओ कृपा शंकर कनौजिया ने 6 जुलाई 2021 को एसपी उन्नाव से पारिवारिक वजहों से छुट्टी मांगी थी. लेकिन छुट्टी मंजूर होने के बाद वो घर जाने की बजाय कहीं और चले गए थे. बताया गया कि उन्होंने कानपुर एक होटल में चेकइन किया था. उनके साथ एक महिला सिपाही भी थी. इस दौरान सीओ ने अपने प्राइवेट और सरकारी, दोनों मोबाइल नंबर बंद कर दिए थे.

इधर, सीओ का नंबर बंद जाने पर परेशान पत्नी ने जब पूछताछ की तो पता चला कि वह छुट्टी लेकर घर के लिए निकले थे. इस पर पत्नी ने एसपी उन्नाव को फोन करके मदद मांगी थी. किसी अनहोनी की आशंका में एसपी उन्नाव ने सर्विलांस टीम को लगाया तो पता चला कि सीओ कृपा शंकर कनौजिया का मोबाइल नेटवर्क कानपुर में एक होटल में आकर बंद हो गया था.

उन्नाव पुलिस कानपुर के उस होटल पहुंची, जहां सीओ की लोकेशन पता चली थी. पुलिसकर्मियों को कानपुर के होटल में सीओ और महिला सिपाही साथ मिले. बताया जा रहा है कि सबूत के तौर पर उन्नाव पुलिस सीओ से जुड़े वीडियो अपने साथ ले गई थी. होटल में एंट्री करते समय सीओ और उनकी महिला मित्र सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए थे. कांड के बाद विभाग की छवि धूमिल करने के चलते रिपोर्ट शासन को भेजी गई थी. शासन ने पूरे मामले पर समीक्षा के बाद कृपा शंकर कनौजिया को रिवर्ट कर सिपाही बनाने की संस्तुति की, जिसके बाद एडीजी प्रशासन ने co को सिपाही बनाने का आदेश जारी किया.
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch