Saturday , July 20 2024

नई दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन पर खुला ट्रेन का पार्सल यान, निकले नोटों के बंडल, फिर…

नई दिल्ली।  नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर मंगलवार को रेलवे पार्सल के जरिए नोटों की तस्करी का मामला पकड़ा गया. सियालदह से नई दिल्ली पहुंची दुरंतो एक्सप्रेस से पार्सल से दिल्ली पहुंचाए गए 8 बैगों को खोलकर जांच की गई तो इसमें से लगभग 24.60 लाख रुपये बरामद हुए. ये रुपये 50 और 10 रुपये के नोटों में थे. सारा पैसा नए नोटों में था. ये पैसा किसने भेजा और इसे दिल्ली में किसी दिया जाना था इसकी जांच कस्टम के अधिकारी कर रहे हैं.

कैसे खुला मामला
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के स्टेशन डायरेक्टर संदीप गहलोट के पास मंगलवार को लगभग 12.30 बजे कस्टम विभाग के अधिकारी पहुंचे. इन अधिकारियों ने बताया कि उनके पास सूचना है कि सियालदह से नई दिल्ली आ रही दुरंतो एक्सप्रेस में बड़े पैमाने पर रुपया तस्करी कर लाया जा रहा है. इसक के इस रुपये की बरामदगी के लिए विशेष टीम बनाई गई. इस टीम में रेलवे व कस्टम विभाग के कुछ कर्मियों को शामिल किया गया.

फटी रह गईं आंखें
सियालदह दुरंतो लगभग 1.30 बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर आठ पर पहुंची. यहां ट्रेन का एसएलआर (वो डिब्बा जिसमें रेलवे में बुक किया हुआ सामान ले जाया जाता है) खुलवा कर सारा सामान उतरवाया गया. इस सामान में संदेह के आधार पर आठ बैग खोले गए. इन बैगों को जब खोलना शुरू किया गया तो उनमें से एक – एक कर नोटों की गड्डियां निकलनी शुरु हो गईं. ये सारे नोट एकदम नए थे. सारा पैसा 50 और 10 रुपये के नोटों में था. सारा पैसा फिलहाल कस्टम विभाग के अधकारियों ने जब्त कर लिया है. अधिकारियों को संदेह है कि पूर्वोत्तर से आने वाली और भी ट्रेनों से इस तरह पैसा एक जगह से दूसरी जगह भेजा जा रहा है. ऐस में संभव है कि जल्द ही और भी ट्रेनों की जांच जी जाए.

क्यों हो रही रेलवे पार्सल से तस्करी
रेलवे के पार्सल के नियमों के तहत जो भी व्यक्ति पार्सल बुक कराता है पैक किए गए डिब्बे के अंदर क्या सामान है उसकी घोषणा बुक कराने वाले यात्री को खुद ही करती होती है. रेलवे के कर्मी कभी-कभी ही संदेह के आधार ही इस बात की जांच करते हैं पार्सल के अंदर वहीं सामान है कि नहीं जिसकी घोषणा बुक कराने वाले ने की है. इसी नियम का फायदा उठा कर रेलवे में पार्सल बुक करा कर नोटों की तस्करी की जा रही है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin