Thursday , July 25 2024

एनआरसी: ममता बनर्जी ने कहा – अमित शाह हमारे बंगाल में कुछ नहीं कर पाएंगे

नई दिल्ली। एनआरसी को लेकर जारी विवाद के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जी न्यूज से कहा है कि एनआरसी पूरे देश का मुद्दा है और इस पर मानवीय आधार पर चर्चा की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि देश अब बीजेपी की बात नहीं सुनेगा और सभी विपक्षी दल एक साथ आकर बीजेपी को हराने का काम करेंगे.

ममता बनर्जी ने कहा, ‘एनआरसी के मुद्दे पर मैंने कहा कि ये एक देश का मुद्दा है, मानवीय मुद्दा है. जो हिंदुस्तानी हैं उनको निकालना नहीं चाहिए. बंगाल बीजेपी की बात नहीं सुनेगा… देश भी अब बीजेपी का बात नहीं सुनेगा. सभी विपक्षी दल एक साथ आएंगे.’ विपक्षी दलों के बीच प्रधानमंत्री उम्मीदवार को लेकर चल रही खींचतान के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद की अभी कोई ज़रूरत नहीं है, अभी बीजेपी को हराने की जरूरत है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बंगाल दौरे के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘अमित शाह365 दिन जाएं बंगाल, ये अच्छा है. हमारे बंगाल में वो कुछ नहीं कर पाएंगे.’ इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि उन्हें कोलकाता जाने की इजाजत मिले या न मिले, वो वहां जाएंगे जरूर. अगर राज्य सरकार चाहे तो उन्हें गिरफ्तार कर सकती है.

आडवाणी से भेंट 
इससे पहले उन्होंने बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी से भेंट की. इस मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने बताया, ‘मैं आडवाणी जी से मिली और उसकी सेहत के बारे में बात की. मैं आडवाणी जी को लंबे समय से जानती हूं.’ उन्होंने कहा, ‘मैं राहुल जी और सोनिया जी से भी मिलूंगी. इसके बाद मुझे देवेगौड़ा जी और अरविंद केजरीवाल जी से भी मिलना है.’

उन्होंने कहा कि असम की सीमा हमारे बंगाल से सटी हुई है. इससे (एनआरसी) वो भी प्रभावित होंगी. उन्होंने सवाल किया, ‘वो हमारा पड़ोस है. अगर हमारे पड़ोसी खुश नहीं होंगे तो क्या हम उनके लिए आवाज नहीं उठाएंगे.’ उन्होंने कहा कि वो यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा से भी अपील करती हैं कि दोनों नेता असम में अपनी टीम भेंजे और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंश (एनआरसी) की हकीकत परखें.

उन्होंने कांग्रेस नेता अहमद पटेल, शिवसेना के नेता संजय राउत और समाजवादी पार्टी की नेता जय बच्चन से भी भेंट की.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin