Monday , July 22 2024

राजभवन के सामने हत्या व लूट को अंजाम देकर एसएसपी आवास के सामने से भागा था खूनी लुटेरा

लखनऊ। राजभवन के पास हत्या और लूटपाट के बाद खूनी लुटेरा सप्रू मार्ग स्थित एसएसपी के बंगले के सामने से भागा था। पुलिस को लुटेरे के रूट का पता चला गया है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक लुटेरा एसएसपी बंगले के सामने से शाहनजफ रोड होते हुए हलवासिया से कैसरबाग और फिर नाका पहुंचा जहां एक होटल में उसके तीन साथी ठहरे थे।

उसके आते ही सारे बदमाश होटल छोड़कर भाग निकले। हालांकि, एसएसपी कलानिधि नैथानी का कहना है कि लुटेरे की आखिरी सीसीटीवी फुटेज हजरतगंज के हलवासिया में मिली है। इसके बाद वह कहां गया? यह स्पष्ट नहीं है।

शुक्रवार को हलवासिया से आगे जाने वाले विभिन्न मार्गों पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज निकलवाई जाएगी। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर पुलिस ने खूनी लुटेरे का जो रूट चार्ट बनाया है, वह राजधानी की कानून व्यवस्था के लिए बेहद शर्मनाक है।

रूट चार्ट से खुली कानून-व्यवस्था की कलई

खूनी लुटेरे का फुटेज

                                                                                                                                                     खूनी लुटेरे का फुटेज
रूट चार्ट में लुटेरा हाई सिक्योरिटी जोन राजभवन के सामने स्थित एक्सिस बैंक के सामने से बाइक लेकर बंदरिया बाग पहुंचा और वहां से दायें मुड़कर एएसपी ट्रैफिक के ऑफिस से गोल्फ क्लब चौराहा गया।

यहां से वह बायीं तरफ सिविल अस्पताल से पार्क रोड पुलिस चौकी के सामने से गुजरा तो भी उसे कोई रोकने वाला था न टोकने वाला। बेखौफ बदमाश आराम से बाइक चलाते हुए नरही की गलियों से श्रीराम टॉवर के सामने अशोक मार्ग पर निकला और जवाहर भवन के सामने सप्रू मार्ग पर मुड़कर एसएसपी बंगले होता हुआ शाहनजफ रोड से हलवासिया पहुंचा।

एसएसपी का कहना है कि हलवासिया से आगे उसकी लोकेशन नहीं मिल पा रही है। हालांकि, पुलिस सूत्रों के मुताबिक हलवासिया से कैसरबाग होते हुए वह नाका गया जहां एक होटल में उसके तीन साथी पहले से ठहरे हुए थे।

बिना हेलमेट देखकर भी नहीं रोका

खूनी लुटेरे का फुटेज

बदमाश के आते ही सभी होटल छोड़कर गायब हो गए। सूत्रों का यह भी कहना है कि लुटेरे और उसके साथी सीतापुर के थे जिनकी तलाश में पुलिस की कई टीमें सीतापुर व कानपुर की खाक छान रही हैं।

उधर, एसएसपी का कहना है कि लुटेरा जिस तरह से शहर में इधर से उधर भाग रहा है, उसे देखकर ऐसा लग रहा है कि वह रास्ता भटक गया है।गोल्फ क्लब चौराहा पर तैनात यातायात पुलिसकर्मियों ने हेलमेट पहने बगैर बाइक चला रहे खूनी लुटेरे को देखकर भी उसे रोकने का प्रयास नहीं किया।

अगर चौराहे पर तैनात यातायात पुलिसकर्मी लुटेरे को रोक लेते तो वारदात का उसी वक्त खुलासा हो जाता। इसी लापरवाही के चलते ही सरकार और पुलिस-प्रशासन की फजीहत हो रही है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin