Sunday , July 14 2024

मीडिया के जरिए भारत और ब्राजील के चुनावों को निशाना बनाने के दावों को रूस ने खारिज किया

रूस द्वारा मीडिया के माध्यम से भारत और ब्राजील जैसे देशों के चुनाव में हस्तक्षेप करने संबंधी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के सोशल मीडिया विशेषज्ञों का अमेरिकी सांसदों के सामने किए गए दावे को रूस ने खारिज करते हुए कहा है कि यह रूस के ब्रिक्स सहयोगियों में अविश्वास पैदा करने की साजिश है.

रूस के भारतीय दूतावास द्वारा जारी एक वक्तव्य में कहा गया है कि रूस ने कभी किसी देश की आंतरिक राजनीति में हस्तक्षेप नहीं किया है. क्योकि यह हमारी विदेश नीति के मूलभूत सिधांत के खिलाफ है. दूतावास का कहना है कि यह दावा हाल में जोहान्सबर्ग में सफल ब्रिक्स सम्मेलन के बाद रूस के ब्रिक्स सहयोगियों में अविश्वास पैदा करने के उद्देश्य से किया गया है.

रूसी दूतावास का कहना है कि रूस का भारत के साथ सौहार्दपूर्ण  रिश्ता जगजाहिर है और रूस ऐसा काम कभी नहीं करेगा जिससे भारत जैसे मित्र देश के हित और मर्यादा के खिलाफ हो.

बता दें कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के ऑक्सफोर्ड इंटरनेट इंस्टीट्यूट एंड बेलियोल कॉलेज में प्राध्यापक फिलिप एन. होवर्ड ने सोशल मीडिया मंच पर विदेशी प्रभाव के मामलों पर अमेरिकी सीनेट की खुफिया कमेटी की सुनवाई में यह दावा किया था कि भारत और ब्राजील सरीखे देशों के चुनाव में हस्तक्षेप करने के लिए रूस वहां के मीडिया को निशाना बना सकता है. क्योकि यहां की मीडिया अमेरिका की तरह पेशेवर नहीं है.

होवर्ड का दावा था कि दुनिया में सबसे ज्यादा पेशेवर मीडिया अमेरिका में हैं. उन्होंने कहा था कि हमारे लोकतांत्रिक सहयोगी देशों में अधिक चिंताएं हो सकती हैं. रूस अमेरिका को निशाना बनाने से आगे बढ़ते हुए ब्राजील, भारत जैसे अन्य लोकतंत्रों को निशाना बना सकता है, जहां अगले कुछ वर्षों में चुनाव होने वाले हैं.

गौरतलब है कि जनवरी 2017 के आंकलन में शीर्ष अमेरिकी खुफिया एजेंसियां इस निष्कर्ष पर पहुंची थीं कि रूस ने 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप किया था.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin