Thursday , July 25 2024

देवरिया: गिरिजा के निजी मकान में चलता है वृद्धाश्रम, काउंसलिंग के नाम पर आती हैं लड़कियां

लखनऊ/देवरिया। उत्तर प्रदेश के देवरिया में नारी संरक्षण गृह में देह व्यापार और लड़कियों के उत्पीड़न का भंडाफोड़ होने के बाद पूरे प्रदेश में हड़कंप मचा है। प्रशासनिक और पुलिस अफसरों की प्रारंभिक जांच से पता चला है कि गोरखपुर के खोराबार इलाके में रानीडीहा में गिरिजा त्रिपाठी के निजी मकान में ही वृद्धाश्रम चलता है। आसपास के लोगों का कहना है कि वृद्धाश्रम में अक्सर लड़कियां आती थीं। पूछने पर बताया जाता था कि बुजुर्गों की काउंसलिंग कराई जा रही है।

पिछले चार साल से खोराबार के रानीडीहा में वृद्धाश्रम संचालित हो रहा है। रिकॉर्ड के मुताबिक, चार बुजुर्ग महिलाएं ही आश्रम में हैं। इनकी देखरेख के लिए ग्यारह कर्मियों की तैनाती की गई है। इसमें डॉक्टर भी शामिल हैं। देवरिया में छापेमारी के बाद से आश्रम के स्टाफ सहमे हुए हैं।

इसी का नतीजा रहा कि छानबीन के डर से सोमवार को दिनभर कार्यालय के दस्तावेज और रजिस्टर दुरुस्त किए गए। देवरिया में छापेमारी के बाद से इस वृद्धाश्रम के ज्यादातर स्टाफ फरार हैं। संचालिका कुछ बोलने से बच रही हैं। परिसर में किसी को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।

एक कर्मचारी ने बताया कि बुजुर्गों की काउंसलिंग के लिए लड़कियां आती थीं। किसी को ठहराया नहीं जाता था। सब आती और काउंसिलंग के बाद चली जाती थीं। आसपास के लोगों की बातों पर यकीन करें तो आश्रम में कई बार लड़कियां देखी गई हैं। हालांकि पुलिस ने अभी तक आश्रम की जांच पड़ताल नहीं की है।

काश आठ साल पहले ही चेत गई होती पुलिस 

गिरिजा का एक और वृद्धाश्रम करीब आठ साल पहले बशारतपुर में चलता था। वहां लड़कियों के होने और रात में रुकने की शिकायत मिली। साथ ही आसपास के लोगों ने जमकर बवाल काटा। इस मामले की सूचना पुलिस को दी गई थी। पुलिस ने छानबीन करके दो लड़कियों की बरामदगी भी की थी। बाद में इन लड़कियों को इलाहाबाद शिफ्ट करके मामले से पल्ला झाड़ लिया गया। यदि आठ साल पहले पुलिस, प्रशासनिक अफसर विस्तृत छानबीन करते तो मामला पकड़ में आ जाता। इस तरह के जाल में मासूम बेटियां नहीं फंसतीं। मामला शांत के बा वृद्धाश्रम खोराबार के रानीडीहा में शिफ्ट कर दिया गया। अगर पुलिस ने तब ही जांच कर सच्चाई जानने की कोशिश की होती तो शायद देवरिया में इतना बड़ा मामला न होता। उन मासूमों को शारीरिक वेदना न झेलना पड़ता।

आईजी ने जारी किया अलर्ट, हर जिले में होगी जांच 

इस देह व्यापार का भंडाफोड़ होने के बाद आईजी गोरखपुर रेंज नीलाब्जा चौधरी ने अलर्ट जारी किया है। उन्होंने रेंज के सभी जिले के एसपी को पत्र भेजकर अपने अपने इलाके में मौजूद नारी संरक्षण गृह, बालिका संरक्षण केंद्र आदि की जांच करने को कहा। यहां पर मौजूद सभी से पूछताछ होगी और वह कब से सेंटर में है और उनसे संबंधित दस्तावेज खंगालने होंगे। एसपी को डीएम की मदद से इस काम को करना होगा।

संस्थाओं से सम्मान भी पा चुकी हैं गिरिजा 

शाहपुर के बशारतपुर में वृद्धाश्रम खोलकर खुद को गिरिजा त्रिपाठी ने सामाजिक सरोकारों से जोड़ने हुए काफी शोहरत बटोरी थी। इलाके ही नहीं, दूर-दूर तक के लोग उसके कामों की न सिर्फ सराहना करते थे बल्कि मदद भी करते थे। उनके काम की सराहना करते हुए कई संस्थानों ने सम्मानित भी किया। आज कुछ संस्थाएं उसकी हकीकत जानने के बाद हैरान हैं।

गोरखपुर के आईजी नीलाब्डा चौधरी ने बताया कि देवरिया प्रकरण की जांच को कई टीमें लगाई गई हैं। 18 लापता लड़कियों की भी तलाश की जा रही है। रेंज के कुशीनगर, गोरखपुर, महराजगंज को भी अपने-अपने क्षेत्र में जांच का आदेश दिया गया है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin