Thursday , July 25 2024

बच्‍चे के रोने पर British एयरवेज ने भारतीय परिवार को विमान से उतारा

नई दिल्‍ली। एक भारतीय परिवार ने आरोप लगाया है कि यूरोप की एक नामचीन एयरलाइन ने उन्‍हें इसलिए विमान से उतार दिया क्‍योंकि उनका 3 साल का बच्‍चा रो रहा था. प्‍लेन जब उड़ने वाला था तब बच्‍चे की मां ने उसे चुप करा लिया था लेकिन केबिन क्रू के अभद्र बर्ताव से बच्‍चा और डर गया और जोर-जोर से रोने लगा. इसके बाद विमान टर्मिनल पर वापस लाया गया और भारतीय परिवार के व कुछ अन्‍य यात्रियों को उतार दिया. भारतीय परिवार ने एयरलाइन के इस बर्ताव की शिकायत उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु से की है. यह घटना 23 जुलाई 2018 की है. परिवार ब्रिटिश एयरवेज की लंदन-बर्लिन फ्लाइट में सवार था. बच्‍चे के पिता 1984 बैच के इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज केे अफसर हैं. अभी उनकी पोस्टिंग रोड ट्रांसपोर्ट मिनिस्‍ट्री में है.

एयरलाइन पर नस्‍ली टिप्‍पणी करने का आरोप
संयुक्‍त सचिव स्‍तर के अधिकारी ने एयरलाइन के इस बर्ताव को ‘रेशियल बिहेवियर’ बताया है. ब्रिटिश एयरवेज के प्रवक्‍ता ने कहा कि हम ऐसे दावों की गंभीरता से जांच करेंगे और किसी भी प्रकार के पक्षपात को बर्दाश्‍त नहीं करेगी. हमने इसकी जांच शुरू कर दी है और भारतीय परिवार के संपर्क में हैं.

क्रू मेंबर के डांटने पर डर गया था बच्‍चा
उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु को दिए गए शिकायती पत्र में अफसर ने कहा-‘फ्लाइट में जब सीट बेल्‍ट बांधने की घोषणा हुई मेरी पत्‍नी ने बच्‍चे की सीट बेल्‍ट बांध दी, जो अलग सीट पर बैठा था. इससे वह परेशान हो गया और रोने लगा. मेरी पत्‍नी उसे चुप करा रही थी. उसने उसे गोद में उठा लिया. इस पर पुरुष क्रू मेंबर हमारे पास आया और चिल्‍लाने लगा. मेरे बच्‍चे को उसकी सीट पर बिठाने को कहा. इससे मेरा बच्‍चा डर गया और जोर-जोर से रोने लगा. हमारे साथ एक और भारतीय परिवार बैठा था, उन्‍होंने बच्‍चे को बिस्किट देकर चुप कराने की कोशिश की. फिर मेरी पत्‍नी ने बच्‍चे को उसकी सीट पर बिठा दिया और सीट बेल्‍ट बांध दी लेकिन वह लगातार रो रहा था.’

बच्‍चे को खिड़की से बाहर फेंकने की धमकी दी
टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अफसर के मुताबिक इस बीच प्‍लेन टेकऑफ की तैयारी में था. वही क्रू सदस्‍य फिर आया और मेरे बच्‍चे पर चिल्‍लाया और उसे खिड़की से बाहर फेंकने की धमकी दी. पत्र में उन्‍होंने लिखा-उसने यह भी कहा कि शांत रहो नहीं तो प्‍लेन से उतार देंगे. इसके बाद प्‍लेन वापस टर्मिनल की ओर मोड़ दिया गया. सुरक्षा गार्डों को बुलाया गया और हमें प्‍लेन से नीचे उतार दिया गया. मेरे साथ जो एक और भारतीय परिवार बैठा था उसे भी उतार दिया गया. उन्‍होंने हम पर नस्‍ली टिप्‍पणी भी की थी. इसलिए मैं इस मामले की जांच चाहता हूं और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin