Tuesday , July 23 2024

फुटबॉलर बनने के लिए उसेन बोल्ट की सिर्फ एक मांग, चाहिए सिर्फ काले रंग की कार

सिडनी। उसेन बोल्ट भले ही सुपरस्टार धावक हों, लेकिन दुनिया के इस सबसे तेज व्यक्ति के साथ पेशेवर फुटबॉलर बनने की उनकी दावेदारी के दौरान ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर कोई विशेष बर्ताव नहीं किया जाएगा. ऑस्ट्रेलिया का सेंट्रल कोस्ट मरीनर्स आठ बार के इस ओलंपिक चैंपियन की मदद करने के लिए सहमत हो गया है, जिससे कि उनका पेशेवर फुटबॉलर बनने का सपना पूरा हो सके. खेलने का अनुबंध हासिल करने की कवायद के तहत बोल्ट को इस क्लब के साथ अनिश्चिकाल के लिए ट्रेनिंग करने की स्वीकृति होगी.

जमैका के दिग्गज धावक उसेन बोल्ट के अपने खर्चे पर इस सप्ताहांत सिडनी के उत्तर में 75 किमी दूर गोसफोर्ड आने का कार्यक्रम है और उन्होंने सिर्फ एक मांग रखी है कि उनकी कार काले रंग की हो. मरीनर्स के मुख्य कार्यकारी शान माइलकैंप ने सिडनी डेली टेलीग्राफ से कहा, ”उसकी पसंद का रंग. यह काला होना चाहिए.”

यह पूछने पर कि क्या कोई और मांग की गई है. उन्होंने कहा, ”नहीं, सिर्फ यही एक मांग है.” माइलकैंप ने कहा, ”निजी बाडीगार्ड, निजी मालिशिया जैसी भी कोई मांग नहीं की गई है. फ्रांस से बोतलबंद पानी की मांग भी नहीं की गई है.”

बता दें कि बोल्ट का फुटबॉल प्रेम किसी से छुपा नहीं है. वह क्लब के साथ अभ्यास करने को लेकर काफी उत्साहित हैं. बीबीसी ने हाल ही में बोल्ट के हवाले से लिखा, “मैं ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए पूरी तरह से तैयार हूं. मेरा हमेशा से सपना रहा है कि मैं पेशेवर फुटबॉल खेलूं. मैं जानता हूं ऑस्ट्रेलियाई लीग (ए-लीग) में खेलने के लिए जो स्तर चाहिए उसके लिए काफी मेहनत और अभ्यास की जरुरत है.” उन्होंने कहा, “मैंने हमेशा से कहा है कि कुछ भी हो सकता है. सीमाओं के बारे में मत सोचो. मैं इस चुनौती के लिए पूरी तरह से तैयार हूं.”

आठ बार के ओलंपिक पदक विजेता और 100 तथा 200 मीटर में विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले बोल्ट ने जर्मनी के क्लब बोरसिया डॉर्टमंड, दक्षिण अफ्रीकी क्लब सनडाउन और नोर्वे के क्लब स्ट्रोमस्गोडसेट के साथ भी अभ्यास किया था. उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि मैं क्लब में सकारात्मक सहयोग दे सकूंगा. मैं दूसरे खिलाड़ियों से मिलने को तैयार हूं.”

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin