Monday , July 22 2024

LIVE : पीएम नरेंद्र मोदी बोले, ‘हमें रुकना मंजूर नहीं, झुकना हमारा स्‍वभाव नहीं’

नई दिल्ली। 72वें स्‍वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लालकिले की प्राचीर से देश को संबोधित कर रहे हैं. इससेे पहले पीएम मोदी ने राजघाट पहुंच महात्‍मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की. बतौर पीएम नरेंद्र मोदी पांचवीं बार लाल किले से देश को संबोधित रहे हैैं. प्रधानमंत्री ने इस दौरान देश में हर क्षेत्र में हुए विकास को जनता के सामने रखा. कयास लगाए जा रहे हैं कि 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने भाषण में कई बड़ी योजनाओं का ऐलान कर सकते हैं.

2022 तक अंतरिक्ष में बेटा-बेटी
पीएम मोदी ने कहा कि आज का सूर्योदय नई चेतना दे रहा है. देश आज आत्‍मविश्‍वास से भरा हुआ है. पीएम मोदी ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों को गिनाया. उन्‍होंने कहा कि हम 2022 तक देश के बेटा-बेटी को अंतरिक्ष तक पहुंचाएंगे. उन्‍होंने कहा कि अभी अभी संसद का मानसून सत्र पूरा हुआ. इस सत्र में समाज की रक्षा करने के लिए संसद ने देश को बलवान बनाया. उन्‍होंने कहा कि मानव की गरिमा के बिना देश संतुलित होकर आगे नहीं बढ़ सकता.

महिलाओं की प्रशंसा की
पीएम मोदी ने देश के विकास में महिलाओं की भागीदारी की भी प्रशंसा की. उन्‍होंने कहा कि आज मैं ऐलान करता हूं कि सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिये महिलाओं को अब स्‍थायी कमीशन मिलेगा. उन्‍‍‍‍‍‍‍‍होंने कहा कि मेरे बारे में बहुत कुछ कहा जाता है, लेकिन मैं आज बेसब्र हूं. मैं बेचैन हूं. बच्‍चों के विकास में कुपोषण रुकावट बना हुआ है. मुझे मेरे देश को कुपोषण से मुक्‍त कराना है. मैं व्‍याकुल हूं कि गरीब बीमारियों के बीच रहा रहा है.

करदाताओं को दिया श्रेय
पहले 25 का गेहूं 2 रुपये में, 30 का चावल 3 रुपये में दिया जाता था. लेकिन गरीबों को मिलने वाला यह हक पहले छीन लिया जाता था. हमारी सरकार देश के गरीबों के लिए काम करती है. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में ईमानदारी से टैक्‍स चुकाने वाले करदाताओं ने विकास में अहम योगदान दिया. जीएसटी आने के बाद 70 लाख करदाताओं का आंकड़ा एक करोड़ पर पहुंच गया. सभी सरकारी योजनाओं का श्रेय इन्‍हीं करदाताओं को जाता है.

10 करोड़ परिवारों को लाभ
उन्‍होंने कहा ‘एक अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍था ने अच्‍छी रिपोर्ट पेश की है. उसने बताया है कि पिछले दो वर्ष में पांच करोड़ गरीब गरीबी की रेखा से बाहर आए. हमने अपने चार सालों में देश के गरीबों को सशक्‍त बनाने पर बल दिया है’. उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री जन आरोगय अभियान के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को बेहतर इलाज मिलेगा. हर परिवार को हर साल पांच लाख तक का हेल्‍थ इंश्‍योरेंस देने की योजना है. तिरंगे की शान के लिए सेना के जवान अपनी जान दे देते हैं. सेना, अर्धसैनिक बलों और सुरक्षा बलों को उनके त्‍याग के लिए शत-शत नमन.

स्‍वच्‍छाग्रही तैयार किए
महात्‍मा गांधी की अगले साल 150वीं जन्‍मतिथि पर देश में स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में कई आयाम स्‍थापित होंगे. उन्‍होंने कहा कि महात्‍मा गांधी ने सत्‍याग्रही तैयार किए थे, उनकी प्रेरणा ने स्‍वच्‍छाग्रही तैयार किए. पीएम ने कहा कि भारत आज अंतरराष्‍ट्रीय सोलर अलायंस का नेतृत्‍व कर रहा है. आज भारत दुनिया में कहीं भी पैर रखता है तो वहां उसका स्‍वागत होता है. आंबेडकर के नेतृत्‍व में देश में आजादी के बाद समावेशी संविधान बनाया गया. बाबा साहेब आंबेडकर ने देश के गरीबों और वंचितों को न्‍याय दिलाने वाले संविधान की रचना की.

सोया हाथी जाग गया है
पीएम मोदी ने कहा कि अगले साल बैसाखी के त्‍योहार पर जलियांवाला बाग कांड को 100 साल पूरे हो जाएंगे. मैं उन लोगों को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्‍होंने तब अपनी जान गवां दी. 2014 में देश के सवा सौ करोड़ नागरिक सरकार बनाकर रुके नहीं थे, वे देश बनाने के लिए जुटे थे और जुटे रहेंगे. देश के 125 करोड़ नागरिक एक संकल्‍प के लिए आगे बढ़ें तो क्‍या नहीं हो सकता है. अब सोया हुआ हाथी जाग चुका है. सोया हाथी अब दौड़ लगा रहा है.

कांग्रेस पर हमला
पीएम मोदी ने कहा कि पहले फाइलें लटकती थीं, लेकिन हमने फैसला लिया कि किसानों को एमएसपी का लाभ मिलना चाहिए. लालकिले में कई नेता मौजूद हैं. कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, लोकसभा अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन शामिल हैं.

लालकिले पर सुरक्षा में 10 हजार पुलिसकर्मी
दिल्ली की रखवाली में लगभग 70 हजार पुलिसकर्मी तैनात हैं. 10 हजार पुलिसकर्मी लालकिले पर सुरक्षा के लिए तैनात किए गए हैं. दिल्ली पुलिस के कर्मियों से विशेष रूप से आसमान पर नजर रखने को कहा गया है जिससे कि यह सुनिश्चित हो सके कि लालकिले के आसपास के क्षेत्रों में कोई पतंग दिखाई न दे. पिछले साल, प्रधानमंत्री जब स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित कर रहे थे तो एक काली पतंग मंच के सामने आकर गिरी थी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin