Sunday , July 14 2024

एशियाई खेल 2018 : दूसरे दिन की शानदार शुरुआत, शूटर दीपक कुमार ने जीता सिल्वर मेडल

जकार्ता। भारतीय निशानेबाज दीपक कुमार ने सोमवार (20 अगस्त) को जारी 18वें एशियाई खेलों में निशानेबाजी प्रतियोगिता में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा का रजत पदक अपने नाम किया है. इस स्पर्धा में हालांकि, रवि कुमार पदक नहीं जीत पाए. उन्हें चौथा स्थान प्राप्त हुआ. दीपक ने फाइनल में 247.1 अंक हासिल कर रजत पदक पर कब्जा जमाया. यह एशियाई खेलों के दूसरे दिन भारत की झोली में गिरा पहला पदक है. दीपक ने पहली बार एशियाई खेलों में पदक हासिल किया है. इससे पहले, क्वालिफिकेशन में दीपक को पांचवां स्थान हासिल हुआ था, वहीं रवि ने चौथा स्थान हासिल किया था.

फाइनल में एक समय पर दीपक बाहर होने की कगार पर थे, लेकिन उन्होंने शानदार वापसी करते हुए अच्छा प्रदर्शन कर ताइवान लु शाओचुआन को मात देते हुए रजत पर कब्जा जमाया.

इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक चीन के यांग हाओरान ने जीता है, वहीं कांस्य शाओचुआन को मिला है.

पाइनल में बनाई जगह
बता दें इससे पहले रवि कुमार और दीपक कुमार ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश कर लिया था. रवि ने क्वालिफिकेशन दौर में चौथा स्थान हासिल किया, वहीं दीपक को पांचवां स्थान हासिल हुआ. भारतीय निशानेबाज रवि ने 44 एथलीटों की सूची में 626.7 अंक हासिल करते हुए चौथा स्थान प्राप्त किया. दीपक ने 626.3 अंकों के साथ पांचवा स्थान हासिल किया. इस सूची में चीन के यांग हाओरान 632.9 अंकों के साथ पहले स्थान पर रहे, वहीं दक्षिण कोरिया के सोंग सूजो को 629.7 अंकों के साथ दूसरा और चीन के हुई झेंग को 627.2 अंकों के साथ तीसरा स्थान मिला.

पहले दिन खाते में आया एक गोल्ड और ब्रॉन्ज
भारत के लिए 18वें एशियाई खेलों का पहला दिन मिलाजुला रहा. बजरंग पूनिया ने उम्मीदों पर खरा उतरते हुए पुरुषों की 65 किलोग्राम भारवर्ग फ्री स्टाइल स्पर्धा में स्वर्ण पदक अपने नाम किया तो वहीं दो बार के ओलम्पिक पदक विजेता सुशील कुमार 74 किलोग्राम भारवर्ग फ्री स्टाइल स्पर्धा के पहले ही दौर में बाहर हो गए. निशानेबाजी में अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार ने 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम स्पर्धा में भारत की झोली में कांस्य पदक डाला, लेकिन युवा निशानेबाज मनु भाकर तथा उनके जोड़ीदार अभिषेक वर्मा 10 मिटर पिस्टल मिश्रित टीम स्पर्धा में पदक नहीं ला सके.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About admin