Sunday , February 28 2021

जुए में 1 खरब रुपये हार गए इस बड़ी मोबाइल कंपनी के चेयरमैन? दिवालिया हो सकती है कंपनी

चाइनीज स्मार्टफोन निर्माता कंपनी जियोनी (Gionee) के बुरे दौर से गुजरने की खबर है. यह भी कहा जा रहा है कि जियोनी दिवालियेपन के कगार पर खड़ी हो गई है. मीडिया रिपोटर्स के अनुसार जियोनी के चेयरमैन लियो लिरोंग (Liu Lirong) साइपैन के एक कसीनो में जुआ खेलने के दौरान कथित तौर पर 10 अरब युआन (करीब 1 खरब रुपये) हार गए. चाइनीज वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट www.scmp.com में प्रकाशित खबर के अनुसार जियोनी के चेयरमैन लियो लिरोंग (Liu Lirong) की जुए की आदत कंपनी पर भारी पड़ रही है. हालांकि अभी तक इस बारे में कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है.

जुआ खेलने की बात मानी
साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में प्रकाशित खबर के अनुसार जियोनी के संस्थापक ने माना कि उसने हांग-कांग लिस्टेड साइपैन के एक कसीनो में जुआ खेलने के लिए कंपनी के एसेट का प्रयोग किया. लेकिन उसने 10 अरब युआन हारने की बात से साफ इंकार किया है और कहा इसका काफी छोटा हिस्सा जुए में लगाया है. लिरोंग ने कहा कि यह कैसे संभव है कि मैं इतनी रकम हार जाउे. अगर लिरोंग के इतनी बड़ी रकम साइपैन के कसीनो में हारने की बात सही है तो कसीनो के मालिक की मौज आ जाएगी.

1 अरब युआन हारने की बात कबूली!
हालांकि सिक्योरिटीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार जियोनी के चेयरमैन लिरोंग से जब पूछा गया कि उन्होंने जुए में कितने रुपये हारे हैं. तो उनकी तरफ से 1 अरब युआन (करीब 10 अरब रुपये) हारने की बात कबूली गई. जो कि 1 खरब रुपये का काफी छोटा हिस्सा है. जियोनी दुनिया में छठी सबसे बड़ी हैंडसेट निर्माता कंपनी है. अब जब जियोनी के दिवालियेपन की खबर आ रही है तो ऐसे में जियोनी के मार्केट में विपरीत असर पड़ सकता है.

मीडिया रिपोटर्स में कहा जा रहा है कि जियोनी अपने सप्लायर्स को भुगतान नहीं कर पाई. खबरों में कहा जा रहा है कि करीब 20 सप्लायरों ने 20 नवंबर को शेनजेन इंटमीडिएट पीपल्स कोर्ट में दिवालियेपन का आवेदन दिया है. कंपनी की तरफ से अभी तक इस बारे में कोई भी बयान नहीं दिया गया है. इससे पहले अप्रैल में खबर आई थी कि जियोनी भारत में इस साल 6.5 अरब रुपये निवेश करेगी. जियोनी देश के शीर्ष 5 स्मार्टफोन ब्रांड में शुमार होना चाहती है.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति