Monday , April 15 2024

जया प्रदा ने ज्वाइन की BJP, आजम खान के सामने ठोंक सकती हैं ताल

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के टिकट पर सांसद रह चुकीं अभिनेत्री जया प्रदा ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का दामन थाम लिया है. मंगलवार को बीजेपी वरिष्ठ नेता भूपेंद्र यादव और अनिल बलूनी ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई. बीजेपी ज्वाइन करने के बाद जया प्रदा ने कहा कि यह मेरे जीवन का अहम पल है. उन्होंने कहा कि बीजेपी में उन्हें सम्मान के साथ बुलाया गया है, इसके लिए मैं इस पार्टी की शुक्रगुजार हूं. जया ने कहा कि मैं पहली बार राष्ट्रीय पार्टी में आई हूं. मुझे देश के बहादुर नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में काम करने का मौका मिला है.

उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का भी शुक्रिया कहा. इस मौके पर जया ने सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव, एंटी रामाराव और चंद्रबाबू नायडू जैसे वरिष्ठ राजनेताओं को याद करते हुए कहा कि मैं इन लोगों की शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे राजनीति में काम करने का मौका दिया.

सूत्रों के हवाले से खबर है कि जया प्रदा को बीजेपी रामपुर से लोकसभा चुनाव 2019 (Lok sabha elections 2019) प्रत्याशी बना सकती है. दिलचस्प बात यह है कि जया प्रदा रामपुर सीट से ही समाजवादी पार्टी (सपा) की सांसद रह चुकी हैं.

जया प्रदा को अमर सिंह सपा में लेकर आए थे. उसके बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने जया को रामपुर से सांसद बनवाने में काफी मदद की थी. इस बार के लोकसभा चुनाव में सपा ने आजम खान को रामपुर सीट से टिकट दिया है. ऐसे में अगर जया प्रदा को बीजेपी रामपुर से प्रत्याशी बनाती है तो उनका सीधा मुकाबला आजम खान से होगा.

जया प्रदा का विवादित टिप्पणी कर चुके हैं आजम
एक समय जया प्रदा के लिए चुनाव प्रचार में दिन रात एक करने वाले आजम खान पिछले कुछ साल से उनसे नाराज चल रहे हैं. यह झगड़ा आजम खान और अमर सिंह के बीच आई तल्खी के बाद शुरू हुआ है. अखिलेश यादव के सपा अध्यक्ष बनते ही जया प्रदा और अमर सिंह दोनों को पार्टी से निकाल दिया गया है. इस झगड़े में दोनों तरफ से कटु बयान दिए गए हैं. पिछले साल आजम खान ने जया प्रदा को लेकर विवादित टिप्पणी तक कर दी थी. अब देखना दिलचस्प होगा कि इस बार के लोकसभा चुनाव में अगर दोनों जया और आजम आमने-सामने होते हैं तो दोनों के बीच किस तहर के जुबानी हमले होते हैं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch