Friday , April 19 2024

शरद पवार का पीएम मोदी पर पलटवार, कहा- मुझसे पंगा मत लो

उस्मानाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर परोक्ष हमला करते हुए एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने गुरुवार को कहा कि वह खुद किसी से पहले से पंगा नहीं लेते हैं, लेकिन ऐसा करने वाले को उसकी जगह दिखा देते हैं. पवार ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद मोदी पर सेना के पराक्रम का राजनीतिक लाभ उठाने का भी आरोप लगाया. मोदी ने बुधवार को गोंडिया में एक चुनाव रैली में कहा था कि एनसीपी नेताओं की नींद उड़ गई है. उन्होंने सोमवार को वर्धा में एक अन्य रैली में एनसीपी प्रमुख पर यह कहकर हमला किया था कि पवार ने अपनी पार्टी पर पकड़ खो दी है और इसके भीतर पारिवारिक कलह चल रही है.

मध्य महाराष्ट्र में एक रैली को संबोधित करते हुए पवार ने मोदी पर परोक्ष हमला करते हुए कहा, ”हम उस मिट्टी से हैं जहां छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म हुआ. हम खुद पहले से किसी पंगा नहीं लेते, लेकिन कोई यदि ऐसा करता है तो उसे उसकी जगह दिखा देते हैं.” पवार यहां एनसीपी उम्मीदवार राणा जगजीत सिंह पाटिल के लिए प्रचार करने पहुंचे थे.

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि मोदी पूछते हैं कि उन्होंने रक्षामंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान क्या किया. उल्लेखनीय है कि पवार 1991 से 1993 तक देश के रक्षामंत्री थे. उस समय वह कांग्रेस में थे. पवार ने जवाबी हमला करते हुए कहा कि उन्होंने देश में हमले नहीं होने दिए जैसा कि मोदी की सरकार के दौरान हो रहा है.

पवार ने कहा कि मोदी कहते रहे हैं कि देश में पिछले 70 साल में पूर्ववर्ती सरकारों के दौरान कोई विकास नहीं हुआ, लेकिन मोदी को बताना चाहिए कि क्या उन्होंने इसमें अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकारों (1998 से 2004) के कार्यकाल को भी जोड़ा है. पवार ने राष्ट्र निर्माण में योगदान के लिए पूर्व प्रधानमंत्री- जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री और राजीव गांधी की सराहना की. उन्होंने कहा, ”वर्तमान प्रधानमंत्री सुरक्षाबलों के शौर्य का अपने प्रचार के लिए इस्तेमाल करते हैं. यह सरकार यहां तक कि कुलभूषण जाधव तक की रिहाई कराने में असफल रही है. 56 इंच का सीना कहां चला गया?” उस्मानाबाद निर्वाचन क्षेत्र में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 18 अप्रैल को मतदान होगा.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch