Saturday , April 20 2024

30 घंटे की रेड पर बोले OSD प्रवीण कक्कड़- ‘अधिकारियों को ऐसा कुछ नहीं मिला, जिसे वह जब्त कर सकें’

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के घर और आधिकारिक परिसरों पर चली 2 दिन की छापेमारी में सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने जहां आयकर विभाग की छापेमारी में करीब 281 करोड़ रुपये के बेहिसाब नकदी के रैकेट का पता लगाने, 14.6 करोड़ रुपये की “बेहिसाबी” नकदी बरामद करने और मध्य प्रदेश तथा दिल्ली के बीच हुए संदिग्ध भुगतान से जुड़ी डायरी तथा कंप्यूटर फाइलें अपने कब्जे में ली हैं, तो वहीं OSD प्रवीण कक्कड़ का कहना है कि 2 दिनों तक चली इस छापेमारी में आयकर विभाग के अधिकारों को ऐसा कुछ नहीं मिला है, जिसे वह जब्त कर सकें या उन्हें संदिग्ध लगे. इस पूरी कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए प्रवीण कक्कड़ ने आयकर विभाग के छापे की जगह राजनीतिक ऑपरेशन बताया है.

मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी कहे जाने वाले और उनके OSD प्रवीण कक्कड़ ने आयकर विभाग की छापेमारी पर बात करते हुए कहा है कि ‘2 दिन की लंबी छापेमारी के बावजूद उन्हें ऐसा कोई दस्तावेज नहीं मिला, जिसे वे जब्त कर सकें, अधिकारियों को कोई नकदी या आभूषण भी नहीं मिला. उन्हें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं लगा, यह एक राजनीतिक ऑपरेशन था.’ उन्होंने आरोप लगाया है कि यह आयकर विभाग का छापा नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी का राजनीतिक ऑपरेशन था.

View image on Twitter

ANI

@ANI

Praveen Kakkar, OSD to MP CM on IT raids at his residence & official premises: Despite the 2 day long raid they didn’t find any document that they could seize, they didn’t recover any cash or jewellery either. They didn’t find anything objectionable, it was a political operation.

162 people are talking about this
बता दें आयकर विभाग की एक टीम ने CM कमलनाथ के निजी सचिव प्रवीण कक्कड़ के साथ ही उनके करीबी प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा के घरों और ऑफिस के साथ ही अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की थी. जहां आयकर विभाग के अधिकारियों को छापे के दौरान 14.6 करोड़ की नकदी, 252 शराब की बोतलें, कुछ हथियार और कुछ बाघ की खालें भी मिली थीं. छापेमारी के बारे में सीबीडीटी ने बताया था कि दिल्ली में टीम को एक कैशबुक भी मिली है, जिसमें 230 करोड़ के लगभग की बेनामी लेनदेन का ब्यौरा है. इसके अलावा दिल्ली में हुई छापेमारी में कैश रैकेट से जुड़े कई सबूत हाथ लगे हैं.
साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch