Tuesday , April 16 2024

एनडी तिवारी के बेटे रोहित की मौत का रहस्य गहराया, क्राइम ब्रांच को सौंपा गया मामला

नई दिल्ली। यूपी-उत्तराखंड के पूर्व सीएम रहे दिवंगत एनडी तिवारी के पुत्र रोहित शेखर तिवारी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले की जांच को क्राइम ब्रांच को सौंपा गया है. क्राइम ब्रांच के पास मामला पहुंचने के बाद नए सिरे इसकी जांच शुरू हो गई है. शुक्रवार को क्राइम ब्रांच की टीम और वरिष्ठ अधिकारी दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी स्थित उनके घर पहुंची और घर की छानबीन की.

फिलहाल कुछ नहीं कहना चाहते हैं अधिकारी
क्राइम ब्रांच के अधिकारियों का कहना है कि वह इस मामले की जांच कर रहे हैं, जब तक कोई ठोस जानकारी नहीं मिल जाती है वह इस पर बयान नहीं देना चाहते हैं. बता दें कि 16 अप्रैल को रोहित शेखर तिवारी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी.

रोहित के शरीर पर नहीं कोई चोटः पुलिस रिपोर्ट
पुलिस के मुताबिक रोहित के कोई बाहरी चोट का कोई निशान नहीं है, आशंका है कि उसकी ब्रेन हैम्ब्रेज की वजह से हुई हो, रोहित के घरवालों के मुताबिक घर में उनकी नौकरानी ने बताया कि रोहित की नाक से खून निकल रहा था, बताया जा रहा है कि रोहित को न्यूरो से जुड़ी समस्या थी. दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी विजय कुमार ने कहा था कि रोहित के घर में भी जांच के साथ नौकरों और घरवालों से पूछताछ जारी है. पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है उसके बाद मौत से पर्दा उठ पाएगा.

कुछ सालों पहले किया था एनडी तिवारी के बेटे होने का दावा
रोहित तिवारी ने कुछ साल पहले दावा किया था कि वे एनडी तिवारी के पुत्र हैं. पुत्र के अधिकार पाने के लिए रोहित ने अदालत का दरवाजा खटखटाया था. साल 2014 में कोर्ट ने एनडी तिवारी और रोहित का डीएनए टेस्ट करवाए जाने का आदेश दिया था. इसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. रोहित ने जनवरी 2017 में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ली थी.

अवसाद में थे रोहित शेखर तिवारी!
रोहित शेखर तिवारी की मां उज्जवला तिवारी ने रोहित की मौत को सामान्य बताया है. उन्होंने कहा कि, रोहित की मौत पर हमें कोई संदेह नहीं है. लेकिन कुछ लोगों ने उसे अवसाद दिया है. जिसका खुलासा समय आने पर करूंगी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch