Tuesday , July 23 2024

जम्मू-कश्मीर में 24 घंटे में मेजर समेत 4 जवान शहीद, जैश कमांडर सज्जाद भट्ट समेत 3 आतंकी ढेर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबल एक्शन में हैं, लेकिन आतंकी भी अपने नापाक मंसूबों से बाज नहीं आ रहे हैं. बीते 24 घंटे में जम्मू-कश्मीर में एक मेजर समेत चार जवान अलग-अलग आतंकी घटनाओं में शहीद हो चुके हैं. जबकि सुरक्षाबलों ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर सज्जाद भट्ट समेत तीन आतंकियों को ढेर किया है. अनंतनाग में आतंकियों से आज भी सुबह से मुठभेड़ चल रही है.

24 घंटों में किन-किन हमलों में शहीद हुए जवान?

आज अनंतनाग में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच एनकाउंटर हुआ, जिसमें दो आतंकी मारे गए और एक जवान शहीद हो गया. वहीं कल भी अनंतनाग में आतंकियों से एनकाउंटर में मेजर शहीद हो गए. इसके अलावा कल ही पुलवामा में सेना की गाड़ी पर हमला हुआ. इस हमले में 2 जवान शहीद हो गए, जबकि सात जवान घायल हैं.

मारा गया पुलवामा हमले का गुनहगार सज्जाद भट्ट

इसी साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला हुआ था. इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के चार महीने बाद आज सुरक्षाबलों ने अनंतनाग में जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर सज्जाद भट्ट को मार गिराया. सज्जाद भट्ट उस गाड़ी का मालिक था जिस गाड़ी में विस्फोट रखकर सीआरपीएफ के काफिल से टकराया गया था.

बता दें कि कल पुलवामा में ईदगाह-अरिहाल के पास आतंकियों ने सेना के गश्ती काफिले पर आईईडी ब्लास्ट किया था. इस काफिले में 44 राष्ट्रीय रायफल्स की गाड़ियां थी. इस हमले में करीब 9 जवान और 2 स्थानीय लोग घायल हुए थे. जिस जगह आतंकियों ने इस बार हमला किया वो जगह पिछले बार हुए हमले से सिर्फ 27 किलोमीटर ही दूर है.

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने पहले ही किया था आगाह

बताया जा रहा है कि इस हमले को लेकर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने पहले ही आगाह किया था. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों ने भारत और अमेरिका सरकार से भी जानकारी साझा की थी. पाकिस्तानी सरकार ने हमले को लेकर आईएस की तरफ इशारा किया था. पाकिस्तान की तरफ से कहा गया था कि आईएस जाकिर मूसा की मौत का बदला लेना चाहता है. पिछले महीने ही जाकिर मूसा को मुठभेड़ में मारा गया था. पुलवामा अटैक के बाद गाड़ी में आईईडी फिट करके किया गया ये दूसरा हमला है. इससे पहले जवाहर टनल के पास भी सीआरपीएफ की बस को निशाना बनाने की कोशिश हुई थी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch