Monday , October 14 2019

विराट की हर फरमाइश पर मुहर लगाती रही BCCI, लेकिन नहीं दे पाए नतीजा

विराट कोहली की नेतृत्‍व वाली टीम इंडिया का आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 का सफर समाप्त समाप्त हो चुका है. भारतीय टीम ने सेमीफाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया, जिसके चलते उसे वर्ल्ड कप से बाहर होना पड़ा. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने टीम इंडिया को मनचाही सैलरी सहित अन्य सारी सुविधाएं देने में कोई कमी नहीं रखी. … लेकिन उसके बदले कप्तान विराट कोहली ने क्या दिया..?  नजीता सभी के सामने है.

अपने प्रदर्शन से क्रिकेट की दुनिया पर राज करने वाले वाले विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम इंडिया वर्ल्ड कप के खिताबी मुकाबले में पहुंचने से पहले ही हथियार डाल बैठी. सेमीफाइनल की चूक ने सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया. विराट कोहली उन कप्तानों में हैं, जो BCCI पर भी अपना ‘वर्चस्व’ रखते हैं. बात भारी भरकम सैलरी की हो या किसी सीरीज से पहले या बीच में ही छुट्टी पर जाने की, बोर्ड ने हमेशा उनकी बात मानी है. कोच के चयन में मामले भी कोहली की पसंद को बीसीसीआई ने तरजीह दी थी, लेकिन कोहली-शास्त्री की जोड़ी फेल रही.

shastri-1_071119110239.jpg

 

BCCI ने टूर्नामेंट को लेकर खिलाड़ियों पर पैसा बहाने में कोई कमी नहीं रखी, लेकिन विराट कोहली ‘चोकर’ साबित हुए. आइए जाने हैं कि BCCI सालाना कॉन्ट्रैक्ट के अलावा खिलाड़ियों पर कितनी ‘धनवर्षा’ करती है.

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त कमेटी ऑफ एडमिनिस्‍ट्रेटर्स (COA) के  अनुसार, बोर्ड ने अक्टूबर 2018 से सितंबर 2019 तक के लिए खिलाड़ियों के साथ करार किया है. बोर्ड ने 4 कैटेगिरी में खिलाड़ियों को रखा है. मौजूदा वर्ल्ड कप में जो टीम खेलने गई थी, उसमें मयंक अग्रवाल को छोड़कर सभी खिलाड़ी बीसीसीआई के ग्रेड में हैं. इसमें कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह ग्रेड-A+ में हैं, जिन्हें सालाना बोर्ड 7 करोड़ देता है.

ग्रेड-A+

विराट कोहली-7 करोड़

रोहित शर्मा-7 करोड़

जसप्रीत बुमराह-7 करोड़

ग्रेड-A

रवींद्र जडेजा-5 करोड़

भुवनेश्वर कुमार-5 करोड़

महेंद्र सिंह धोनी-5 करोड़

मोहम्मद शमी-5 करोड़

कुलदीप यादव-5 करोड़

ऋषभ पंत-5 करोड़

ग्रेड-B

केएल राहुल-3 करोड़

यजुवेंद्र चहल-3 करोड़

हार्दिक पंड्या-3 करोड़

ग्रेड-C

केदार जाधव-एक करोड़

दिनेश कार्तिक-एक करोड़

(इसमें मयंक अग्रवाल का कॉन्टैक्ट शामिल नहीं है)

कितनी है मैच फीस  ?

वनडे मैच में हर खिलाड़ी को मैच फीस के तौर पर 6 लाख रुपए दिए जाते हैं.

टी-20 मैच में हर खिलाड़ी को मैच फीस के तौर पर 3 लाख रुपए दिए जाते हैं.

टेस्ट मैच में हर खिलाड़ी को मैच फीस के तौर पर 15 लाख रुपए दिए जाते हैं.

प्रदर्शन पर कितना पैसा?

कॉन्ट्रैक्ट के अलावा बोर्ड खिलाड़ियों के व्यक्तिगत प्रदर्शन पर भी पैसा देता है. अगर कोई खिलाड़ी टेस्ट या वनडे मैच में शतक या 5 विकेट लेता है तो उसे 5 लाख रुपए बोनस के तौर पर दिए जाते हैं. इसी तरह किसी मैच में डबल सेंचुरी लगाने पर बोर्ड की ओर से उस खिलाड़ी 7 लाख रुपए एक्स्ट्रा बोनस दिए जाते हैं.

टीम परफॉर्मेंट पर कितना पैसा?

बोर्ड की ओर से टीम परफॉर्मेंस पर अलग से बोनस दिया जाता है. इसी साल जनवरी में ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया ने दमदार प्रदर्शन किया था. भारत ने 2-1 से टेस्ट सीरीज जीता था. बोर्ड ने सभी खिलाड़ि‍यों को मैच फीस के बराबर की राशि बोनस के रूप में देने का फैसला किया था. प्‍लेइंग XI में शामिल हर खिलाड़ी के लिए बोनस की यह राशि प्रति मैच 15 लाख रुपये थी, जबकि रिजर्व खिलाड़ियों 7.5 लाख रुपए दिए गए थे. इसके अलावा टीम के कोचों (मुख्‍य कोच, बैटिंग और बॉलिंग कोच) के लिए 25-25 लार रुपये के पुरस्‍कार की घोषणा की गई थी.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *