Wednesday , April 24 2024

दुष्कर्म: बच्ची के हर अंग पर टांके, आंखें नहीं खुलने पर रोती है, लेकिन आवाज नहीं निकलती

अमूमन हम ऐसी तस्वीरें नहीं छापते। लेकिन, बच्ची के साथ हुई हैवानियत की भयावहता दिखाने के लिए तस्वीर छापनी जरूरी है।

नई दिल्ली। दिल्ली के जनकपुरी इलाके में रविवार रात नशे में धुत एक रिक्शा चालक ने 6 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। दरिंदगी के बाद वह उसे मार रहा था, तभी लोगों ने पकड़ लिया। पुलिस ने आरोपी अरुण कुमार दास को गिरफ्तार कर लिया है। बच्ची का सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा है। उसकी हालत अभी नाजुक बनी हुई है। रविवार रात रिक्शा चालक ने माता-पिता के साथ फुटपाथ पर साे रही बच्ची का अपहरण कर लिया था। बाद में वह आरोपी के पास मिली।

डॉक्टरों का कहना है कि उसके शरीर पर काफी अधिक चोटें और नाखूनों के निशान हैं। छह साल की बच्ची से हुई हैवानियत का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि उसके शरीर का कोई अंग ऐसा नहीं बचा है, जिस पर टांके न आए हाें। आंख पूरी तरह नहीं खुलतीं। बच्ची आंंख खोलने की काेशिश करने पर रोती है, तो गले से चिल्लाने की आवाज भी नहीं निकल पाती। सिर पर चोटें देखकर लगता है कि आरोपी ने उसे जमीन पर पटक-पटककर मारने की कोशिश की थी। मंगलवार को दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल भी बच्ची का हालचाल जानने अस्पताल पहुंचीं। उन्होंने कहा कि बच्ची को ठीक होने में एक साल से ज्यादा समय लग जाएगा।

दरिंदे काे फांसी देने के लिए लाेगाें ने किया प्रदर्शन : मंगलवार को जनकपुरी इलाके के लोगों ने सी-1 चौराहे पर प्रदर्शन किया। ये लाेग दुष्कर्म के आरोपी को फांसी देने की मांग कर रहे थे। भीड़ ने कुछ देर के लिए ट्रैफिक भी जाम किया। यह घटना ऐसे समय में सामने आई है, जब सुप्रीम कोर्ट बच्चों से दुष्कर्म के मामलों पर स्वत: संज्ञान ले चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से ऐसे मामलों से निपटने के लिए विशेष दिशा-निर्देश जारी करने को कहा है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch