Tuesday , May 21 2024

IS की कमान संभाल रही हैं मेट्रो सिटी की महिलाएं, NIA का बड़ा खुलासा

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने एक बड़ा खुलासा किया है. एनआईए ने बताया कि भारत में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) की कमान मेट्रो सिटी में रहने वाली महिलाएं संभाल रही हैं. ये महिलाएं सोशल मीडिया के जरिए इस्लामिक स्टेट की विचारधारा का प्रचार-प्रसार कर रही हैं. इतना ही नहीं हमले के लिए विस्फोटक जुटाने का भी काम कर रही हैं. NIA को इस मामले में एक और बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. एजेंसी ने पुणे से सादिया अनवर शेख नाम की एक युवती को गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि सादिया काफी कट्टरपंथी विचारधारा की है.

जानकारी के मुताबिक ये वही सादिया है जो आतंकी जाकिर मूसा से शादी करने जम्मू-कश्मीर पहुंच गई थी. जिसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने साल 2018 में उसे पकड़ लिया था. हालांकि बाद में उसे डी-रेडिकलाइज करके छोड़ दिया गया था. वहीं जब आतंकी जाकिर मूसा ने सादिया से शादी करने से इनकार कर दिया तो उसने जम्मू-कश्मीर ISIS के हेड वकार के सामने शादी का प्रस्ताव रखा. लेकिन जब वकार ने भी शादी से मना कर दिया तो वो ISIS के खिलाफ हो गई थी.

इसके बाद सादिया ने IS का खुरासान मॉड्यूल ज्वॉइन कर लिया. सादिया टेलीग्राम ऐप के जरिए दूसरे आतंकियों से इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) मांग रही थी. लेकिन जांच एजेंसी ने उसकी चैट पकड़ ली. स्पेशल सेल के हाथों गिरफ्तार इस्लामिक स्टेट खुरासान मॉड्यूल की आतंकी हिना बशीर और जहानजेब सामी की इंट्रोगेशन रिपोर्ट में सादिया को लेकर कई खुलासे हुए हैं.

hina_071820122424.jpgहिना बशीर पहले हो चुकी हैं गिरफ्तार

इंट्रोगेशन रिपोर्ट के मुताबिक सादिया शेख टेलीग्राम ऐप पर अहल-ए-वफ़ा नाम की आईडी से गिरफ्तार हिना बेग और जहानजेब के अलावा दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद आतंकी अब्दुल्ला बाशित से लगातार कॉन्टैक्ट में थी.

अब्दुल बाशित तिहाड़ जेल से ही ‘वॉइस ऑफ इंडिया’ नाम की एक मैगजीन निकाल रहा था. हिना, सादिया और जहानजेब मैगजीन निकालने में बाशित की मदद कर रहे थे. इस पत्रिका में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) प्रोटेस्ट के नाम पर दिल्ली दंगों के पोस्टर छापे गए थे और भड़काने वाले कंटेंट डाले गए थे.

बताया जा रहा है कि दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले की साजिश रची जा रही थी. दिल्ली में लोन वुल्फ अटैक की प्लानिंग चल रही थी. लोन-वुल्फ अटैक का मतलब यह है कि आतंकवादी दिल्ली पुलिसकर्मियों पर चाकू से हमला कर सकते हैं या छोटे हथियारों से फायरिंग कर सकते हैं या फिर वाहन से कुचल सकते हैं.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch