Tuesday , May 28 2024

वर्ल्ड कप जीतने की शर्त पर हुई थी शादी, बेहद फिल्मी है श्रीसंत- राजकुमारी की प्रेमकहानी

श्रीसंत ने अपनी जिंदगी में बड़े उतार-चढ़ाव देखे हैं । एक शानदार क्रिकेट करियर होने के बावजूद वो फिक्सिंग के ऐसे जाल में फंसे कि उससे निकलने में उन्‍हें सालों लग गए । सात साल बाद उन पर लगा बैन खत्‍म हो गया । लेकिन जिंदगी के उस मोड़ में भी कोई था जो उनके साथ था, उनका हमसफर बन उनके साथ हर परिस्थिति से लड़ रहा था । श्रीसंत की उनकी भुवनेश्वरी कुमारी, उनके हमेशा साथ ही नजर आई हैं । जानिए, कैसे शुरू हुई थी ये प्रेम कहानी ।

भुवनेश्वरी और श्रीसंत की पहली मुलाकात
श्रीसंत के करियर के साथ ही उनकी प्रेम कहानी की भी शुरुआत हो गई थी । श्रीसंत ने जब डेब्यू किया था तब भुवनेश्वरी स्कूल में पढ़ रही थीं । श्रीसंत की पत्नी ने पहली मुलाकात के बारे में एक इंटरव्‍यू में बताया था –  ‘जब वो स्कूल आए तो सारी लड़कियां पागल हो गईं ।  हर कोई उनसे मिलने बात करने के लिए बेताब था । पर मुझे ये सब ठीक नहीं लगता था । अगले दिन श्रीसंत की नजर मुझपर पड़ी और वह उनसे मिलने चाहते थे।’  भुवनेश्वरी राजस्थान के दीवानपुरा राजघराने की राजकुमारी हैं । वो प्रोफेशनली एक ज्‍यूलरी डिजाइनर हैं ।
फोन पर हुईं बातें, प्‍यार

भुनवनेश्वरी और श्रीसंत के बीच फोन पर बातें शुरू हुईं थीं, श्रीसंत उन्हें शायरी सुनाया करते थे । धीरे-धीरे वह भी भुवनेश्वरी को अच्छे लगने लगे । मुलाकातों और बातों के बीच दोनों को प्यार हो गया, साल 2009 में श्रीसंथ ने भुवनेश्वरी से कहा कि अगर 2011 टीम वर्ल्ड कप जीती तो मैं शादी के लिए आपका हाथ मांगने घर आऊंगा । टीम जीत गई और श्रीसंत उनके घर पहुंच गए । उनका हाथ मांगने । भुवनेश्‍वरी के परिवार को शादी से कोई ऐतराज नहीं था ।

6 साल किया डेट

श्रीसंत ने भुवनेश्वरी से श्रीकृष्ण मंदिर में, 12 दिसंबर 2013 को शादी की थी । ये शादी साउथ इंडियन और राजस्थानी दोनों ही तौर-तरीकों से हुई । शादी के बाद श्रीसंत ने ग्रैंड रिसेप्शन दिया था जिसमें खेल से लेकर बिजनेस जगत के कई मशहूर लोग शामिल हुए थे । इसके बाद श्रीसंत की जिंदगी में वो दौर आया जब उन पर फिक्सिंग के आरोप लगे । उन्हें तब जेल भी जाना पड़ा, लेकिन उनकी पत्‍नी ने उनका साथ नहीं छोड़ा । श्रीसंत अपनी पत्‍नी को अपनी ताकत बताते हैं ।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch