Thursday , October 1 2020

बड़ा खुलासा: दिल्ली हिंंसा के लिए हुई थी करोड़ों की फंडिंग, इनके अकाउंट में ट्रांसफर हुए पैसे

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा मामले में क्राइम ब्रांच अभी जांच कर रही है और इस जांच में बड़ा खुलासा हुआ है. जांच में सामने आया है कि सीएए-एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन और दंगों की फंडिंग के लिए बड़ी तैयारी की गई थी. दिल्ली में दंगे होने से पहले, दंगों के आरोपियों के खातों में और कैश के जरिये 1,62,46 053 रुपए (एक करोड़ 62 लाख 46 हजार 53 रुपए) आए थे.

इसमें दंगों के आरोपियों ने 1,47,98,893 ( एक करोड़ 47 लाख 98 हजार 893 रुपए) रुपए दिल्ली में चल रहे करीब 20 प्रदर्शन वाली जगहों पर और दिल्ली में दंगा करवाने में खर्च किए.

आरोपियों ने इन रुपयों से दंगों के लिए हथियार भी खरीदे, प्रदर्शन के लिए सामग्री भी खरीदी. आरोपियों के अकाउंट में भारत ही नहीं विदेशों से भी पैसा आया था. ये पैसे ओमान, कतर, यूएई और सऊदी से आए थे.

जिन दंगों के आरोपियों के अकाउंट में रुपए आए उनके नाम- ताहिर हुसैन, मिरान हैदर, इशरत जहां, शिफा उर रहमान, खालिद सैफी हैं.

सबसे ज्यादा पैसा आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ने अपने अकाउंट में और कैश के जरिये जमा किया गया जो 1,32,47000 रुपए (1 करोड़ 32 लाख 47 हजार रुपए) था. जिसमें से 1,29,25500 रुपए (1 करोड़ 29 लाख 25 हजार 500) रुपए खर्च किए गए. इसमें से बड़ा अमाउंट प्रदर्शन साइट, दंगे के लिए लोगों को इकठ्ठा करने और दंगों में इस्तेमाल होने वाला सामान खरीदने के लिए लगाया गया.

दंगों के आरोपी शफी उर रहमान के अकाउंट पर और कैश के तौर पर 12,88,559 रुपए आए जिसमें 5,55,000 रुपए विदेशों से आए. कतर, ओमान, सऊदी, UAE से 9,34,600 रुपए  CAA- NRC के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों की जगहों पर खर्च किए गए..

दंगों के आरोपी मिरान हैदर के अकाउंट में और कैश के तौर पर 5,46, 494 रुपए आए जिसमें से 2,67000 रुपए निकाले गए. इसी आरोपी ने ही दिल्ली में चल रहे दंगों का रजिस्टर बनाया था. जिसमें ये लिखा होता था कि कितना पैसा किसके पास से आ रहा है किसको कितना दिया जा रहा है. पुलिस ने इसके पास के कैश भी बरामद किया गया था. इसके पास भी विदेशों से रुपए आए थे.

दंगों के आरोपी खालिद सैफी का अकाउंट में और कैश के तौर पर 6,23,000 रुपए आए जिसमें से 2,10,893 रुपए दंगों और प्रोटेस्ट साइट पर खर्च किए गए.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति