Friday , September 25 2020

चीनी लड़ाकू विमान ताइवान में घुसे, मिसाइलें देखकर भागे, भारत सहित सभी पड़ोसियों के लिए खतरा बना ड्रैगन

ताइपे। चीन भारत सहित सभी पड़ोसियों के लिए खतरा बना हुआ है। उस पर भरोसा करना मुश्किल है। चार दशक बाद किसी उच्चस्तरीय अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के ताइवान दौरे से चिढ़े चीन के लड़ाकू विमानों ने पड़ोसी देश के हवाई क्षेत्र में घुसने की कोशिश की। ताइवान ने पलटवार किया तो वे निकले। रविवार को यहां पहुंचे अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार कर रहे हैं। ताइवान के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, चीन के जे-11 और जे-10 लड़ाकू विमानों ने स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजे जैसे ही ताइवान की खाड़ी में मध्य रेखा को पार किया, उन पर जमीन से हवा में मार करने वाले मिसाइलें दागी गईं और पैट्रोलिंग विमानों को पीछे लगा दिया गया। यह देखकर चीनी विमान तुरंत भाग निकले। चीन की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं की गई है।

अमेरिकी मंत्री के ताइवान दौरे से चिढ़ा हुआ है चीन

ताइवान के हवाई क्षेत्र में लगातार लड़ाकू विमान भेज रहा है चीन 

इस बीच सैटेलाइट की तस्‍वीरों में खुलासा हुआ कि चीन ने ताइवान के तट के पास पानी और जमीन दोनों पर ही चलने में सक्षम जंगी जहाज और मोबाइल मिसाइल लॉन्‍चर तैनात किए हैं। चीन ने कुछ दिन पहले ही परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम मिसाइल का परीक्षण भी किया था। यही नहीं, चीन लगातार ताइवान के हवाई क्षेत्र में अपने लड़ाकू जहाज भेज रहा है। ताइवान पर खतरे को देखते हुए अमेरिकी नौसेना ने भी इस इलाके में अपनी गश्‍त बढ़ा दी है।

इस बीच, ताइवान पहुंचे अमेरिकी स्वास्थ्य मंत्री एलेक्स अजार ने राष्ट्रपति साई-इंग-वेन से मुलाकात की। उन्होंने कहा, ‘ताइवान के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से समर्थन और दोस्ती का संदेश लेकर यहां आना वाकई सम्मान की बात है।’

अमेरिकी स्वास्थ्य मंत्री ने ताइवान के राष्ट्रपति से मुलाकात की

अजार ताइवान के साथ आर्थिक और स्वास्थ्य सहयोग मजबूत करने तथा कोरोना वायरस के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय लड़ाई में ताइवान की भूमिका का समर्थन करने के लिए यहां आए हैं। चीन ने अजार के दौरे को अमेरिका का विश्वासघात करार दिया है। अमेरिका ने चीन के पक्ष में 1979 में ताइवान से राजनयिक संबंध तोड़ लिए थे। चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है और यदा-कदा सैन्य कार्रवाई की धमकी भी देता रहता है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति