Saturday , March 6 2021

सावधान! महाराष्ट्र में फिर पैर पसार रहा है कोरोना, जरा बचके…

मुंबई। पिछले कुछ दिनों में कोरोनावायरस (Coronavirus) फैलने की गति धीमी जरूर हुई है, लेकिन खतरा पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। ताजा आंकड़े बता रहे हैं कि महाराष्ट्र में फिर से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है।

मुंबई में 1 फरवरी से लोकल ट्रेन शुरू हो चुकी है और आम लोगों के लिए निर्धारित समय पर यात्रा की अनुमति भी दे दी गई है। ऐसे में पहले सप्ताह में ही कोरोना के रोगियों की संख्या बढ़ती दिख रही है। मुंबई के अलावा विदर्भ के अमरावती में कोरोना मरीजों की संख्या में वृद्धि दर्ज की गई है। कई स्थान ऐसे हैं भी जहां आंकड़ा स्थिर है।

लोकल ने बढ़ाई मुश्किल : यदि मुंबई की बात करें तो संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ते क्रम में नजर आ रहा है। 1 फरवरी को 328 नए मरीज मिले थे और 10 फरवरी तक ये आंकड़ा 558 तक पहुंच गया है। इस प्रकार 10 दिन में 4237 नए मरीज मिलना चिंता की वजह है। कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या के लिए लोकल ट्रेन को भी एक वजह माना जा रहा है। इन ट्रेनों में पहले की तरह ही भीड़ नजर आ रही है।
छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, दादर, कुर्ला, चर्चगेट इन सभी स्टेशनों पर बड़ी संख्या में यात्रियों की भीड़ नजर आ रही है, जिसकी वजह से कोरोना संक्रमण बढ़ने की आशंका व्यक्त की जा रही है। दरअसल, पिछले दिनों
मुंबई में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या में कमी के चलते लोकल ट्रेन सीमित समय के लिए शुरू की गई है।
नगर निगम गंभीर : दूसरी ओर, कोरोना रोगियों की संख्या में भी वृद्धि के मद्देनजर नगर निगम के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने चेतावनी दी है कि अगर संख्या आगे भी इसी तरह बढ़ती है, तो उन्हें इस मामले में गंभीरता से विचार करना होगा।

काकानी के अनुसार अगले 10 से 12 दिनों सतर्कता से नजर रखी जाएगी। साथ ही MMR क्षेत्र यानी मुंबई, ठाणे, कल्याण, डोंबिवली, नवी मुंबई, उल्हासनगर, भिवंडी, निजामपुर, वसई विरार, मीरा भयंदर और पनवेल इन क्षेत्रों में अगर मरीजों की संख्या बढ़ती रही तो फिर से विचार करना होगा।

आपको बता दें कि मार्च 2020 के बाद से ही मुंबई कोरोना के मामले हॉट स्पॉट रहा है। अप्रैल और मई में धारावी और वर्ली हॉटस्पॉट थे। संक्रमण से बचने के लिए तब युद्ध स्तर पर कई उपाय किए गए थे, तब कहीं जाकर कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आई।

विदर्भ में भी स्थिति चिंताजनक : इधर विदर्भ में भी स्थिति चिंताजनक हो गई है। अमरावती जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या में अचानक वृद्धि हो रही है। अमरावती जिले के कई इलाके हॉटस्पॉट बनते जा रहे हैं। इसमें शहर के राजापीठ, साईंनगर बेलपुरा, कैंप, रुक्मिणी नगर, दस्तूर नगर रहटगांव, अचलपुर, चंदूर बाजार, नंदगांव, खंडेश्वर आदि स्थान अब प्रशासन के रडार पर हैं। इन क्षेत्रों में घर-घर जाकर जांच की जा रही है।

इस बीच, गुरुकुंज मोजरी में बाजार 18 तारीख तक बंद रहेगा। सरकार ने 15 फरवरी से राज्य में कॉलेज शुरू करने का आदेश दिया था, परंतु अमरावती जिले में कोरोना रोगियों की संख्या में हो रही बढ़ोतरी को देखते हुए एहतियात के तौर पर कॉलेज दो सप्ताह देर से खुलेंगे।

लापरवाह हुए लोग
पिछले कुछ दिनों में कोरोना का डर लगभग खत्म चुका है और सार्वजनिक स्थलों पर लोग बिना मास्क के घूमते नजर आ रहे हैं। वहीं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और सैनिटाइजर का उपयोग भी कम हो गया है। ऐसे में प्रशासन एक बार फिर सतर्क हो रहा है, अब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं पहनने वालों को दंडित किया जाएगा।

किसी भी महामारी में मरीजों की संख्या बढ़ना स्वा‍भाविक है क्योंकि संक्रमण पूरी तरह से खत्म होने में समय लगता है। दोबारा संक्रमण फैलने की एक वजह ये भी है कि पिछले कुछ दिनों में लोगों ने कोरोना को गंभीरता से लेना बंद कर दिया है। लोग कई शादियों और विभिन्न आयोजनों में दावत उडा रहे हैं, बेखौफ मिलजुल रहे हैं और खास बात ये कि संक्रमण से बचाव के लिए बताए गए नियमों पालन भी नहीं कर रहे हैं।

ऐसे में आने वाले कुछ समय तक हमें कोरोना के अब तक सख्ती से पाले जा रहे नियमों व उपायों पर अमल करते रहना चाहिए क्योंकि संक्रमण के प्रसार को मात देने के लिए सावधानी ही सुरक्षा औऱ बचाव ही उपाय है। लोगों को समझना होगा कि यदि सावधानी न बरती तो इसका खामियाजा हमें ही भुगतना होगा।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति