Saturday , June 19 2021

नए कृषि कानूनों पर ब्रिटिश संसद में उठी आवाज- यह भारत का आंतरिक मामला, अमेरिका भी कर चुका है समर्थन

लंदन। ब्रिटिश संसद के निचले सदन हाउस ऑफ कामंस में कृषि सुधारों को भारत का घरेलू मामला बताया गया है। एक वरिष्ठ सांसद द्वारा दिया गया यह बयान दर्शाता है कि किसान आंदोलन को लेकर ब्रिटिश सरकार का क्या रुख है। समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, गुरुवार को विपक्षी लेबर पार्टी के सांसदों ने मुद्दे पर बहस की मांग की थी। इसके जवाब में सत्तापक्ष से जुड़े वरिष्ठ सांसद जैकब रीस मोग ने कहा, ‘भारत का गौरवशाली इतिहास रहा है। वह एक ऐसा देश है जिसके साथ हमारे सबसे मजबूत संबंध हैं। किसानों के आंदोलन पर ब्रिटिश सरकार बारीकी से नजर रखी है। कृषि सुधार भारत का घरेलू मामला है।’

गौरतलब है कि हाल ही में अमेरिका ने भी नए कृषि कानूनों पर भारत सरकार के रुख का समर्थन किया था। अमेरिका ने कहा था कि वह उन प्रयासों का स्वागत करता है जिससे भारत के बाजारों की क्षमता में सुधार होगा और निजी क्षेत्र की कंपनियां निवेश के लिए आकर्षित होंगी। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के इस बयान से संकेत मिला था कि बाइडन प्रशासन कृषि क्षेत्र में सुधार के भारत सरकार के कदम का समर्थन करता है। इससे निजी निवेश आकर्षित होगा और किसानों की बड़े बाजारों तक पहुंच बनेगी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति