Monday , November 29 2021

UNESCO की वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में शामिल हुआ गुजरात का धोलावीरा, PM मोदी ने दी बधाई

गुजरात के हड़प्पाकालीन शहर धोलावीरा को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में शामिल कर लिया गया है. यूनेस्को विश्व धरोहर समिति (WHC) के 44वें सत्र के बाद धोलावीरा को वर्ल्ड हेरिटेज को शामिल किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस उपलब्धि को बेहद शानदार खबर करार दिया.

यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में भारत का एक और शहर शामिल हो गया है. यूनेस्को ने आज मंगलवार को धोलावीरा को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में शामिल करने का ऐलान किया. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि इस खबर से बहुत खुशी हुई है. धोलावीरा एक महत्वपूर्ण शहरी केंद्र था और हमारे अतीत के साथ हमारे सबसे महत्वपूर्ण संबंधों में से एक है. विशेष रूप से इतिहास, संस्कृति और पुरातत्व में रुचि रखने वालों को यहां की यात्रा अवश्य करनी चाहिए.

गुजरात के कच्छ के भारत-पाकिस्तान सीमा पर पुरातत्व स्थल यानि धोलावीरा स्थित है. यहां से हडप्पनकालीन सभ्यता के अवशेष पाए गए हैं.

दुनियाभर में अपनी अनूठी विरासत के लिए मशहूर धोलावीरा साइट ‘कच्छ के रण’ के मध्य स्थित द्वीप ‘खडीर’ में स्थित है और इसे पांच हजार साल से भी पुराना माना जाता है. इसे विश्व का पहला प्राचीन महानगर के तौर पर भी जाना जाता है. हड़प्पाकालीन सभ्यता के पुराने स्थलों में एक से एक है धोलावीरा.

माना जाता है कि धोलावीरा में सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष और खंडहर मिले हैं, और यह उस सभ्यता के सबसे बड़े प्राचीन नगरों में से एक था. भौगोलिक तौर पर यहां वन्य अभ्यारण्य के भीतर खादिरबेट द्वीप पर ये स्थित है और यहां हजारों पक्षी भी आते हैं.

हडप्पा संस्कृति के इस नगर की जानकारी 1960 में हुई और 1990 तक इसकी खुदाई चलती रही. हडप्पा, मोहन जोदाड़ो, गनेरीवाला, राखीगढ़, धोलावीरा और लोथल ये 6 पुराने महानगर पुरातन संस्कृति के नगर हैं. इनमें से धोलावीरा और लोथल भारत में स्थित हैं जिसमें आज धोलावीरा को वल्ड हेरिटेज साइट के तौर पर शामिल कर लिया है.

यहां के गांव के लोगों के पुरानी मांग थी की कि इस साइट को वर्ल्ड हेरिटेज साइट के तौर पर घोषित किया जाए.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति