Tuesday , September 28 2021

‘महिला सुरक्षा के लिए अपनाएँ यूपी मॉडल’: कॉन्ग्रेस MP के नेतृत्व वाले पैनल की राज्यों को सलाह, प्रियंका-राहुल के प्रोपेगेंडा को तगड़ा झटका

नई दिल्‍ली। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को अपने कामकाज के लिए विपक्ष से भी सराहना मिल रही है। कॉन्ग्रेस के सांसद आनंद शर्मा ने नेतृत्व वाली एक संसदीय समिति ने महिलाओं के खिलाफ हिंसा पर काबू पाने के लिए उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। आनंद शर्मा राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे हैं और साथ ही यूपीए काल में उन्हें केंद्रीय मंत्री भी बनाया गया था।

हाल ही में उनके नेतृत्व वाली संसदीय समिति ने यूपी में महिलाओं के खिलाफ हिंसा को रोकने के लिए कई विभागों को मिला कर एक ‘सिंगल विंडो सिस्टम’ की स्थापना से लेकर उठाए गए अन्य क़दमों की सराहना की। संसदीय समिति ने अन्य राज्यों को भी सलाह दी है कि वो यूपी सरकार से सीखते हुए महिलाओं व अच्छों के खिलाफ अपराध रोकने के लिए इससे सम्बंधित सभी विभागों के बीच तालमेल बिठाएँ, ताकि वो समन्वय बना कर कार्य कर सकें।

यूपी सरकार के एक नेता ने कहा कि इससे ये स्पष्ट हो गया है कि उत्तर प्रदेश अब अन्य राज्यों के लिए एक उदाहरण पेश कर रहा है। राज्य ने हर जिले में ‘वन स्टॉप सेंटर्स’ की स्थापना कर रखी है, ताकि हिंसा पीड़ित महिलाओं को जल्द से जल्द न्याय दिलाई जा सके। इससे 1,04,859 महिलाओं को अब तक लाभ हुआ है। इन सेंटर्स में अस्थायी शेल्टर और मानसिक काउंसिलिंग से लेकर कानूनी मदद व मेडिकल इलाज की भी व्यवस्था की जाती है।

महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले में सज़ा भी कड़ी से कड़ी दिलाई जाती है, जिससे बलात्कार जैसी घटनाओं में कमी आए। लेकिन, इन सबके बावजूद कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी और महासचिव प्रियंका गाँधी उत्तर प्रदेश का मजाक बनाते हुए ‘बेटी बचाओ’ की तर्ज पर ‘अपराधी बचाओ’ कह कर आलोचना करते हैं। उन्नाव में 2 लड़कियों की हत्या के बाद उन्होंने ‘दलित कार्ड’ खेलने की कोशिश की थी।

उन्होंने यूपी सरकार पर मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप लगाए थे। हाथरस मामले में भी प्रियंका गाँधी व राहुल ने जम कर राजनीति की थी। प्रियंका ने तब कहा था कि महिला सुरक्षा के लिए सीएम योगी ने कुछ नहीं किया है। योगी सरकार ‘कन्या सुमंगल योजना’ भी चला रही है, जिसका फायदा 7.8 करोड़ लड़कियों को मिला है। ‘मिशन शक्ति’ के तहत महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि वो अपनी आय अर्जित कर सकें।

साथ ही महिलाओं के खिलाफ अपराध की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रशासन को ‘ऑपरेशन दुराचारी’ चलाने की सलाह दी है। इसके तहत महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वाले हिस्ट्रीशीटर्स के पोस्टर्स सड़कों पर लगाए गए। सीएम योगी ने कहा कि लोगों को ऐसे अपराधियों के हरकतों के बारे में पता चलना चाहिए, ताकि इन अपराधियों का ‘नेम एंड शेम’ हो सके। महिलाओं का पीछा करने वालों के लिए एंटी-रोमियो स्क्वाड भी बनाया गया था।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति