Tuesday , September 28 2021

जैकलीन फर्नांडीस को तिहाड़ जेल से कॉल करता था सुकेश चंद्रशेखर, भेजता था चॉकलेट और फूल: रैकेट पर ED ने कसा शिकंजा

मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 30 अगस्त 2021 को बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीस से कई घंटों तक पूछताछ की थी। अब मीडिया रिपोर्टों से यह बात सामने आई कि कॉनमैन सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ जेल के भीतर से उनको कॉल करता था। उन्हें महँगे फूल और चॉकलेट भेजता था। बताया जाता है कि सुकेश तिहाड़ के भीतर से ही करीब 200 करोड़ रुपए की रंगदारी वसूल चुका है।

ईडी से जुड़े सूत्रों के अनुसार, सुकेश चंद्रशेखर तिहाड़ जेल के अंदर से स्पूफिंग के जरिए जैकलिन फर्नांडीस को कॉल करता था। वह अपनी पहचान सुकेश चंद्रशेखर की बजाय कुछ और बताता था। उसने जैकलीन को फोन पर बताया वह रसूखदार और बड़े ओहदे पर है। सूत्रों के मुताबिक, “जब जैकलीन उसके झाँसे में आ गई, तो उसने उन्हें महँगे फूल और चॉकलेट भेजना शुरू कर दिया।”

ईडी के अधिकारियों के पास सुकेश के दो दर्जन से अधिक कॉल रिकॉर्ड हैं, जिसके आधार पर वे जैकलीन के साथ हुई धोखाधड़ी के बारे में पता लगाने में सफल रहे। हालाँकि, जाँच एजेंसी ने सुरक्षा कारणों से यह खुलासा नहीं किया है कि सुकेश खुद को क्या बताकर एक्ट्रेस से बातचीत करता था। बताया जा रहा है कि सुकेश ने तिहाड़ जेल से कॉल स्पूफिंग के जरिए एक और मशहूर अभिनेत्री को निशाना बनाने की कोशिश की थी।

गौरतलब है कि ईडी ने सोमवार (30 अगस्त) को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े एक मामले में चेन्‍नई का एक बंगला और कुछ लग्‍जरी कारें सीज की थी। यह कार्रवाई सुकेश चंद्रेशखर नाम के ठग के खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग के केस में की गई थी। चंद्रशेखर पर तिहाड़ जेल के अंदर से फिरौती रैकेट चलाने का आरोप है। जाँच एजेंसियों के मुताबिक, तिहाड़ जेल में बंद रहते हुए सुकेश ने 190-200 करोड़ रुपए की फिरौती वसूली।

बता दें कि बेंगलुरु से आने वाले सुकेश चंद्रेशखर को अय्याश जिंदगी जीने के शौक ने शातिर ठग बना दिया। बेंगलुरु पुलिस ने जब सुकेश को पहली बार पकड़ा था, तब उसकी उम्र सिर्फ 17 साल थी। उस दौरान उसने कर्नाटक के पूर्व सीएम एचडी कुमारस्‍वामी के बेटे का दोस्‍त बनकर एक परिवार से 1.14 करोड़ रुपए ठगे थे। बेंगलुरु में जब उसकी पोल खुलने लगी तो वह चेन्‍नई भाग गया।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति