Monday , November 29 2021

सपा से नहीं बनी बात, बीजेपी के साथ गठबंधन करेंगे शिवपाल? चाचा ने इशारों में कही बड़ी बात

लखनऊ। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव ने मेरठ में शुक्रवार को बड़ा बयान दिया है, उन्होने कहा कि 2022 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव के लिये प्रसपा लोहिया गठबंधन जरुर करेगी, शिवपाल यादव ने कहा कि अगर सपा से उनका गठबंधन नहीं होता है, तो किसी राष्ट्रीय पार्टी से उनका गठबंधन होगा।

बीजेपी से गठबंधन?

हालांकि वो किस राष्ट्रीय पार्टी से गठबंधन करेंगे, इसका खुलासा उन्होने नहीं किया है, ये पूछे जाने पर कि क्या वो राष्ट्रीय पार्टी बीजेपी से भी गठबंधन कर सकते हैं, उन्होने स्पष्ट कहा, शुरु से लेकर अब तक वो किसके खिलाफ बोल रहे हैं,  शिवपाल ने कहा कि प्रसपा जिस गठबंधन में होगी, यूपी में अगली सरकार उनकी ही बनेगी।

अखिलेश से सिर्फ सम्मान मांगा है

शिवपाल यादव ने कहा समान विचारधारा वाली पार्टियां बीजेपी को हटाने के लिये एक हो जाएं, उन्होने कहा कि सपा मुखिया से गठबंधन को लेकर अभी सिर्फ फोन पर बात हुई है, शिवपाल ने कहा, मैंने सपा को बुलंदियों पर पहुंचाया है, मेरे प्रयासों की वजह से नेताजी दो बार प्रधानमंत्री की स्थिति में पहुंच गये थे, लेकिन बनते-बनते रह गये, उन्होने कहा अखिलेश से गठबंधन में मैने सिर्फ सम्मान मांगा है, जो जीतने वाले प्रत्याशी हैं, उनका सम्मान किया जाए, शिवपाल ने कहा रालोद के मुखिया जयंत चौधरी भी गठबंधन में शामिल हों।

मेरी उन्हें जरुरत नहीं

अखिलेश यादव के यूपी में 400 सीटें जीतने वाले बयान पर प्रसपा मुखिया शिवपाल ने कहा, ये बात गले नहीं उतरती, अगर अखिलेश 400 सीट जीतेंगे, तो फिर उन्हें मेरी जरुरत नहीं है, सपा से गठबंधन के सवाल पर उन्होने कहा नेताजी से भी इस संबंध में उनकी बात हुई है, नेताजी ने कहा कि वो अखिलेश को समझाएंगे, अगर अखिलेश नहीं समझते हैं, तो नेताजी प्रसपा के लिये प्रचार करेंगे। बार-बार सपा से गठबंधन की बात करते हुए शिवपाल ने कहा, मेरा सम्मान रखते हुए अखिलेश गठबंधन करें, उन्होने कहा कि चाचा-भतीजे का रिश्ता अखिलेश के बचपन से है, चाचा होने के नाते अखिलेश को मेरा सम्मान तो करना ही होगा, बार-बार गठबंधन की बात करते हुए शिवपाल ने कहा गठबंधन कर अखिलेश बीजेपी को सत्ता से हटाएं।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति