Saturday , December 3 2022

‘भाषण में भैंस के दूध का ज्‍यादा दिखा असर’, गोबर वाले बयान को लेकर CM योगी का अखिलेश पर कटाक्ष

लखनऊ। यूपी विधानसभा में मंगलवार को भी सत्‍ता पक्ष और विपक्ष के बीच वाक युद्ध जारी रहा। इस दौरान कई बार जमकर ठहाके भी लगे। ऐसा ही एक अवसर तब आया जब सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अखिलेश यादव द्वारा कल गोबर को लेकर कही गई बात का जवाब दिया। सीएम ने कहा कि हमसे नहीं तो कम से कम चाचा शिवपाल से सीख लिए होते, इस पर सत्‍ता पक्ष के साथ-साथ विपक्ष के सदस्‍य भी हंस पड़े। खुद अखिलेश भी मुस्‍कुराते नज़र आए। दरअसल, कल अखिलेश यादव ने कन्‍नौज के इत्र उद्योग के विकास की मांग उठाते हुए कहा था कि हमें गोबर प्‍लांट नहीं चाहिए…वो आप गोरखपुर ले जाइए। हमें तो कन्‍नौज के इत्र उद्योग का विकास चाहिए। परफ्यूमरी पार्क चाहिए। आज सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने उनका जवाब दिया। सीएम योगी ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने यदि गो-सेवा की होती तो उसी तरह बोले भी होते लेकिन भाषण में भैंस के दूध का ज्‍यादा असर दिखाई दे रहा था। गाय का कम था।

सीएम योगी ने आरोप लगाया कि सपा सरकार घोषणा करने में बड़ी माहिर थी, करती कुछ नहीं थी। 30 एकड़ जमीन पर इत्र पार्क और संग्रहालय कन्‍नौज के नाम पर राज्‍य सरकार परियोजना को आगे बढ़ा चुकी है। 100 करोड़ रुपए का प्रावधान भी किया गया। आईआईटी कानपुर को थर्ड पार्टी जोड़ा गया है। कन्‍नौज के इत्र की खुश्‍बू वैश्विक स्‍तर पर अब दमक रही है। एक जिला एक उत्‍पाद योजना हमारे पूर्वजों की थाती है जो हमें विरासत में प्राप्‍त हुई है। आज देश के सबसे अधिक जीआई उत्‍पाद यूपी में प्राप्‍त हो रहे हैं।

हमसे न सही चाचा शिवपाल से ही सीख लिया होता…
सीएम योगी ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष, एक तरफ किसान की बात कर रहे थे। दूसरी तरफ उन्‍हें गोबर में बदबू नज़र आ रही थी। कैसी विडम्‍बना है। हमारे यहां गाय का गोबर तो बड़ा पवित्र माना गया है। हो सकता है कि नेता प्रतिपक्ष पूजा न करते हों, हम लोगों से न सही यदि चाचा शिवपाल से ही सीखा होता तो पता चल जाता कि पूजा कैसे होती है और पूजा में जब…। आप देखते हुोंगे कि पूजा जब होती है तो हर जगह मूर्ति नहीं होती…हां…गाय का गोबर… यही चाचा के सम्‍पर्क में आने का परिणाम है ये। आप गोवर्धन को कहते हैं कि गोबर हमें नहीं चाहिए। भारत की कृषि प्रधान व्‍यवस्‍था बिना गाय और बिना गाय के गोबर के नहीं हो सकती। यह पूजा से लेकर, संस्‍कार से लेकर भारत की कृषि प्रधान व्‍यवस्‍था तक इसका महत्‍व है। नेचुरल फार्मिंग बगैर गोमाता के संभव नहीं है। लेकिन आपको गाय के गोबर में बदबू आती है। यदि आपने पूजा की होती और गाय के गोबर को लक्ष्‍मी के रूप में रखा होता पता होता कि भारत की समृद्ध‍ि का प्रतीक तो यहीं से प्रारम्‍भ होता है। आप यह प्रश्‍न यहां नहीं किए होते। सीएम ने कहा कि कन्‍नौज प्रदेश का हिस्‍सा है। हम किसी से भेदभाव नहीं करते।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.