Wednesday , June 29 2022

कानपुर में जुमे की नमाज के बाद हिंसा: नुपूर शर्मा के विरोध में मस्जिदों से ऐलान, पुलिस पर भी पत्थरबाजी

कानपुर/लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर में अल्पसंख्यक समुदाय की पुलिसकर्मियों से भिड़ंत हो गई, जिसमें पुलिस पर पथराव किया गया है. इसमें दो लोग घायल हो गए हैं. यहां हालात तनावपूर्ण बताए जा रहे हैं.
कानपुर में परेड चौराहे के पास आज जुमे की नमाज के बाद बाजार बंद करने निकले अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने पथराव कर दिया. इसमें दो लोग घायल हो गए. पुलिस ने इन लोगों को रोकने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने पुलिसकर्मियों पर भी पथराव कर दिया. जिसके बाद यहां हालात तनावपूर्ण हो गए हैं.

दरअसल यहां बाजार बंद करने को लेकर दो पक्ष आमने-सामने हो गए थे. इसलिए यतीमखाना चौराहे के पास पथराव किया गया. ये बाजार बंद नूपुर शर्मा के बयान के विरोध में मुस्लिम संगठनों की ओर से बुलाया गया था. लेकिन इसके बाद दोनों गुटों में हिंसक झड़प हो गई है और दो लोगों के घायल होने की खबर है.

फाइल फोटो
यहां सैकड़ों लोगों ने पथराव किया है. इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया है. कई राउंड हवाई फायरिंग की गई और मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है.

बीते दिनों बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा के द्वारा पैगंबर साहब को लेकर टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान दिए गए विवादित बयान पर मुस्लिम पक्ष ने जुमे की नमाज के बाद दुकानें बंद करने का ऐलान किया था. कल से इलाके में पोस्टर लगाकर दुकानें बंद करने की अपील की गई थी. आज जुमे की नमाज के बाद मुस्लिम समुदाय के लोग बाहर निकले और बेकन गंज इलाके थाना क्षेत्र के यतीमखाना इलाके में स्थित सभी दुकानों को बंद करवाने लगे.

फाइल फोटो

दूसरे धर्म के दुकानदारों ने दुकान बंद करने से मना किया, जिसको लेकर विवाद शुरू हुआ. इसी बीच नमाज अदा कर निकले लोगों में शामिल कुछ शरारती तत्वों ने यतीम खाना रोड के पास स्थित चंद्रेश का हाता में घुसकर पथराव कर दिया और जिसके बाद स्थिति बिगड़ गई. दोनों तरफ से पथराव हुआ भीड़ में शामिल शरारती तत्वों ने देसी तमंचे से फायर किया. देसी बम भी चलने की बात बताई जा रही है. इस पथराव में 2 लोग गंभीर रूप से घायल हैं.

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा, ज्वाइंट कमिश्नर आनंद तिवारी, डीएम कानपुर नेहा शर्मा मौके पर पहुंचे. स्थिति को नियंत्रण में लाने की कोशिश जारी है. फिलहाल पथराव नहीं हो रहा है लेकिन गलियों में भीड़ इकट्ठी है.

फाइल फोटो

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कानपुर देहात जिले में एक कार्यक्रम भी है. बीजेपी नेता नूपुर शर्मा के बयान के विरोध में ये बाजार बंद बुलाया गया था. इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोग दूसरे समुदाय और पुलिसकर्मियों पर किस तरह भागते हुए पत्थरबाजी कर रहे हैं.

स्थिति संभाल रहे हैं- DM 

कानपुर में हुई इस घटना को लेकर कानपुर नगर की जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा है कि वहां पथराव हुआ है और स्थिति को संभाल रहे हैं. मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. वहीं उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार के अनुसार, मौके पर पुलिस फोर्स पहुंच चुकी है. स्थिति नियंत्रण में कर बवाल करने वालों की धरपकड़ की जाएगी.

कट्टरपंथी मुस्लिम दिल्ली बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा के पैगंबर मुहम्मद को लेकर दिए गए कथित बयान से नाराज हैं। पत्थरबाजी कर रहे मुस्लिमों को जब पुलिस ने रोका तो इन्होंने पुलिस पर भी जमकर पत्थर बरसाए।

रिपोर्ट के मुताबिक, घटना परेड चौराहे की है। हालात बिगड़ते देख भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया, हालाँकि, पत्थरबाजी जारी रही। इसके बाद उन्मादी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठियाँ भाँजी गई और टियर गैस के गोले दागे। बताया जाता है कि नूपुर शर्मा के बयान को लेकर जौहर फैंस एसोसिएशन और दूसरी मुस्लिम तंजीमों ने गुरुवार को ही बाजार बंद कराने का ऐलान कर दिया था। इसके बाद आज जुमे की नमाज के बाद कथित शांतिप्रिय समुदाय ने सड़क पर आकर उत्पात मचाना शुरू कर दिया।

सुबह से ही चमनगंज, मेस्टन रोड बाबू पुरवा, दलेल पुरवा, कर्नलगंज हीरामन पुरवा समेत कई इलाकों में पूर्ण या आँशिक बंदी थी। पुलिस ने मुस्लिमों को किसी भी तरह के प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी थी, लेकिन जुमे की नमाज के दौरान विभिन्न मस्जिदों से एक संदेश दिया गया कि वो पैगंबर मुहम्मद पर किसी भी तरह की टिप्पणियों क बर्दाश्त नहीं करेंगे। वहीं नमाज के बाद कट्टरपंथी सड़क पर उतर आए।

बहरहाल कानपुर के पुलिस कमिश्नर का कहना है कि अब हालात सामान्य हो गए हैं। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ये मुस्लिम बाहुल्य इलाका है। हालात को कंट्रोल में करने के बाद अब पुलिस ये पता लगाने में जुट गई है कि पत्थरबाजी में कौन लोग शामिल थे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और खुद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज कानपुर के दौरे पर हैं। इनके साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ भी हैं। अपने इस दौरे के दौरान पीएम मोदी राष्ट्रपति कोविंद के गाँव परौंख भी गए।

क्या है पूरा मामला

बीते दिनों फैक्ट चेक के नाम पर प्रोपेगेंडा फैलाने वाले ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने बीजेपी नेता का एक ट्विस्टेड स्पीच ट्वीट कर ट्रोल्स को उकसाया था। जिसके बाद इस्लामिक कट्टरपंथियों ने नूपुर शर्मा को गला काटने की भी धमकी दी थी। हालाँकि, ये मामला यहीं नहीं थमा, इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बीजेपी प्रवक्ता की हत्या करने पर ईनाम रखने लगे। AIMIM (इंकलाब) ने भाजपा नेता नूपुर शर्मा की हत्या पर ₹1 Cr इनाम घोषित कर दिया।

नूपुर शर्मा पर तमाम तरह की हिंसक वारदातों में आरोपित रज़ा एकेडमी ने पहली FIR मुंबई में दर्ज करवाई थी। इसके बाद एक मदरसे के मौलवी ने दूसरा केस मुंबई के ही मुम्ब्रा थाने में दर्ज करवाया था। नूपुर पर तीसरी FIR हैदराबाद के साइबर क्राइम थाने में 31 मई 2022 दर्ज हुई थी। इसके बाद पुणे के कोंढवा थाने में भी उनके खिलाफ एक एफआईआर दर्ज कराई गई। इस्लामिक कट्टरपंथियों को भड़काने का काम मोहम्मद जुबैर ने किया था।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.