Tuesday , June 28 2022

‘अल्लाह रहमत बरसाए’: दंगाई के घर पर चला बुलडोजर तो लिबरल गिरोह ने पीटी छाती, कहा – मुस्लिमों का हो रहा है उत्पीड़न

दंगाई जावेद अहमद के समर्थन में उतरे लिबरल्स और इस्लामवादीप्रयागराज दंगों के मास्टरमाइंड जावेद अहमद उर्फ जावेद पंप अवैध रूप से बने घर को प्रयागराज प्राधिकरण द्वारा तोड़े जाने पर अब पहले से अपेक्षित तरीके इस्लामवादी और कथित लिबरल्स गैंग उसके बचाव में खड़ा हो गया है। शरजील उस्मानी, राणा अयूब और सुचित्रा विजयन जैसे स्व-घोषित बुद्धिजीवी और कार्यकर्ताओं ने सरकार पर हमला बोल दिया है।

इसी क्रम में कट्टरपंथी इस्लामी शरजील उस्मानी ने प्रयागराज दंगे के आरोपित जावेद का सिलसिलेवार ट्वीट कर आरोपी का बचाव किया। उस्मानी ने समय-समय पर आतंकियों का बचाव करने वाली जेएनयू की स्टूडेंट रही जावेद की बेटी आफरीन फातिमा का भी जिक्र किया।

एडीए की कार्रवाई को बदला करार देते हुए उस्मानी ने ट्वीट किया, “आफरीन फातिमा और उनका परिवार इस बात की कीमत चुका रहा है कि वे कौन हैं। यह खतरनाक रूप से नृशंस है। ये एक विच हंट है। अल्लाह उन सभी परिवारों पर अपनी रहमत बरसाए जो व्यक्तिगत जोखिम होने के बाद भी संघर्ष कर रहे हैं। अल्लाह उनकी और सभी परिवारों की रक्षा करे। आमीन।”

फिर क्या था कथित बुद्धिजीवी सुचित्रा विजयन ने भी आफरीन फातिमा और जावेद अहमद का समर्थन करते किया। सुचित्रा ने हैशटैग #StandWithAfreenFatima के साथ एक ट्वीट पोस्ट किया और एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें लोगों से ट्विटर पर #MuslimLivesMatter जैसे कई टैग्स को ट्रेंड कराने को कहा।

वहीं फाइनैंशियल फ्रॉड के चलते मनी लॉन्ड्रिंग के केस का सामना कर रहीं कट्टर इस्लामी और वाशिंगटन पोस्ट की स्तंभकार राना अय्यूब भी दंगे भड़काने के आरोपित के बचाव में कूद पड़ीं। जावेद अहमद के अवैध निर्माण को वैध तरीके से ध्वस्त करने की कार्रवाई को अय्यूब ने ‘उत्पीड़न’ करार दिया। कथित पत्रकार ने ट्वीट किया, “भारत में उत्पीड़न का एक और दिन। आफरीन फातीमा के खिलाफ अन्याय, विरोध करने पर जिन युवकों की हत्या की गई उनके घरों को तोड़ा गया। भारत में मुस्लिमों को अंतरराष्ट्रीय आक्रोश की कीमत चुकानी पड़ रही है।”

जावेद अहमद के अवैध निर्माण पर चला बुलडोजर

10 जून को जुमे की नमाज के बाद प्रयागराज में हुए दंगे के मास्टरमाइंड जावेद अहमद के अवैध घर को ध्वस्त करने से पहले प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने उसे सुबह 11 बजे तक घर खाली करने का नोटिस दिया था। ये नोटिस अंचल अधिकारी ने नोटिस जारी किया था। नोटिस के अनुसार करेली थाना क्षेत्र में अवैध रूप से संपत्ति खड़ी की गई थी। नोटिस के अनुसार, 9 जून को उसके घर को ध्वस्त करने का आदेश जारी किया गया। इसके बाद प्राधिकरण ने 12 जून को इस पर बुलडोजर चला दिया गया।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.