Friday , August 12 2022

गुलाम मसीह के खेत से IPL यूट्यूब पर LIVE, मजदूरों को पहना दी CSK-MI की जर्सी: जानिए कैसे शोएब-आसिफ के फर्जीवाड़े में डूब गए रूसी

एक नकली क्रिकेट लीग, नकली मैदान, नकली क्रिकेटर और कमेंटेटर लेकिन उसपर सट्टा असली का लगाया जा रहा है और वो भी विदेश से. ये कहानी फिल्मी लगती है, लेकिन ऐसा असली में हुआ है. गुजरात के वडनगर के एक गांव में कुछ लोग इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की तर्ज पर एक नकली क्रिकेट लीग चला रहे थे, जिसमें रूस से सट्टा लगाया जा रहा था और अब इसका भांडा फूट गया है.

आरोपियों के पास से मिला ये सामान

जानकारी के मुताबिक, वडनगर के मॉलीपुर गांव में कुठ लोगों ने एक फार्म खरीदा. यहां उसे क्रिकेट मैदान में तब्दील किया, फ्लड लाइट लगाई गई और पिच भी तैयार की गई. मल्टी कैम सैटअप, कमेंट्री बॉक्स समेत हर तरह की व्यवस्था की गई, ताकि ये पूरा आईपीएल की तरह ही लगे. इतना ही नहीं एक मोबाइल ऐप पर मैच भी लाइव होता था.

इसके लिए गांव के लड़कों को किराये पर लिया जाता था, प्रति मैच 400 रुपये मिलते थे और पूरा मैच खेला जाता था. स्थानीय पुलिस के मुताबिक, रूस में बैठा हुआ व्यक्ति ही सारी व्यवस्था करता था और उसके इशारे पर ये पूरा खेल रचा जाता था.

सट्टे के रेट के हिसाब से गांववालों (नकली क्रिकेटर्स) को बताया जाता था कि कब चौका मारना है, कब आउट होना है. पुलिस ने आरोपियों के पास से क्रिकेट किट, स्पीकर, लाइट, मल्टी कैमरा सैटअप समेत कई चीज़ें बरामद की हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, जो नकली कमेंटेटर था वह हर्षा भोगले की आवाज़ में क्रिकेट कमेंट्री कर रहा था. खुद हर्षा भोगले ने भी इस रिपोर्ट को ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह ज़रूर इस कमेंटेटर को सुनना चाहेंगे.

यह आईपीएल गुजरात के मेहसाणा जिले के मोलीपुर गाँव के एक खेत में खेला जा रहा था। इसे असली आईपीएल की तरह दिखाने की पूरी कोशिश की गई थी। उसी तरह से लाइट, साउंड और कमेंट्री की व्यवस्था की गई थी। इसी का परिणाम है कि रूस में बैठे सट्टेबाज भी इन ठगों की चाल में फँस गए। इन ठगों ने रूस के तीन शहरों टवेर, वोरोनिश और मॉस्को के लोगों को अपनी जाल में फँसाया। मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है और इसमें इस्तेमाल किए गए हवाला चैनलों की भी जाँँच की जा रही है।

शोएब दावड़ा नामक शख्स ने इस फर्जी खेल का तामझाम शुरू किया। फिर इस फर्जीवाड़े में गुलाम मसीह, आसिफ, सादिक दावड़ा, सादिक, सैफी और मोहम्मद कोलू जैसे लोग जुड़ते गए। इन ठगों ने गाँव के 21 खेत में काम करने वाले मजदूरों और बेरोजगार युवकों को इससे जुड़ने के लिए तैयार किया।

यही 21 लोग बारी-बारी से चेन्नई सुपर किंग्स, मुंबई इंडियंस और गुजरात टाइटन्स की जर्सी पहनते और खेलते थे। इतना ही नहीं, इन ठगों ने आईपीएल को असली दिखाने के लिए अंपायर, वॉकी-टॉकी और पाँच एचडी कैमरे भी लगवाए। इसके साथ ही रूस में बैठे लोग, जो इन मुकाबलों पर सट्टा लगा रहे थे, उन्हें किसी तरह का शक न हो, इसलिए इंटरनेट से क्रिकेट स्टेडियम में बैठे दर्शकों के शोर का ऑडियो डाउनलोड किया और मैच के दौरान बीच-बीच में इसे बजा दिया जाता था ताकि असली मैच जैसा लगे। इसके अलावा, ठगों ने कमेंटेटर हर्षा भोगले की नकल करने के लिए मेरठ के एक कमेंटेटर को भी इसमें शामिल किया, जो हूबहू भोगले की तरह कमेंट्री करता था।

आयोजन को प्रमाणिक दिखाने के लिए ‘IPL’ नाम से यूट्यूब पर एक चैनल भी चलाया जा रहा था। इस चैनल पर फर्जी मैचों का लाइव प्रसारण किया जाता था। इसके साथ ही सट्टेबाजी के लिए टेलीग्राम चैनल भी बनाया गया था। इस चैनल के जरिए ही रूस में बैठे लोग फर्जी आईपीएल मैच पर दाँव लगाते थे।

शोएब ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि रूसी पब में काम करने के दौरान उसकी मुलाकात आसिफ मोहम्मद से हुई थी, जो इस ठगी का मास्टरमाइंड था। आसिफ ने पब में रूसी लोगों को क्रिकेट की बारीकियों के बारे में बताया। इसके बाद शोएब ने सादिक दावड़ा, साकिब, सैफी और मोहम्मद कोलू को अंपायर की जिम्मेदारी दी। सैफी और सादिक ने खिलाड़ियों का इंतजाम किया।

पुलिस अधिकारी ने आगे बताया कि शोएब सट्टा लगाता था और अंपायर कोलू को चौके और छक्के दिखाने का निर्देश देता था। कोलू बल्लेबाज और गेंदबाज को सचेत कर देता था। इसके बाद, बॉलर एक धीमी गेंद डालता था, जिस पर बल्लेबाज चौका या छक्का लगाता था। उन्होंने बताया कि कैमरामैन कैमरों को आसमान की ओर पैन करके दिखाते थे कि गेंद कहीं दिखाई नहीं दे रही है। इसके बाद, वे अंपायर पर जूम करते थे, जो चौके या छक्के का संकेत देता था।

इसी तरह से पूरी सट्टेबाजी का खेल चल रहा था। फर्जी आईपीएल कराने वालों को रूस से सट्टा लगाने के लिए 3 लाख रुपए की पहली किश्त भी मिल गई थी। हालाँकि, जब तक इस फर्जीवाड़े से जुड़े लोग इन पैसों को इस्तेमाल कर पाते, पुलिस ने सबको दबोच लिया। बताया जा रहा है कि यह आईपीएल क्वॉर्टर फाइनल तक पहुँच चुका था, लेकिन सेमीफाइनल में पहुँचने से पहले ही पुलिस ने उनका पर्दाफाश कर दिया।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.